सत्यानाशी के फायदे (Satyanashi ke fayde)

Spread the love

सत्यानाशी के फायदे (Satyanashi ke fayde): नमस्कार दोस्तों हम आपका स्वागत करते हैं अपने नए ब्लॉग पोस्ट में और आज हम बात करेंगे, सत्यानाशी के फायदे(satyanashi ke fayde) के बारे में। सत्यानाशी नाम सुनकर आपको अचंभा तो जरूर हो रहा होगा की  यह कैसा नाम है। लेकिन आप लोग इसके नाम पर बिल्कुल भी मत जाइए, जैसा इसका नाम है उसके विपरीत ही इसके काम है। 2 से 3 फिट की लंबाई वाला और कांटों से घिरा यह पौधा आपके शरीर के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।  इस पौधे का पूर्ण तरह से इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाई बनाने के लिए किया जाता है। इसकी जड़ों से लेकर इसके पत्तों तक का इस्तेमाल हमारे लिए लाभदायक हो सकता है। तो आज के इस लेख में आपको बताऊंगा सत्यानाशी के फायदे(satyanashi ke fayde), इसके इस्तेमाल के तरीके, इसके नुकसान, और इसमें मिलने वाले पोषक तत्व के बारे में।

सत्यानाशी के फायदे (Satyanashi ke fayde)
सत्यानाशी के फायदे (Satyanashi ke fayde)

सत्यानाशी में क्या पाया जाता हैं

सबसे पहले बात करते हैं सत्यानाशी में मिलने वाले पोषक तत्व के बारे में:

संपूर्ण भारत में मिलने  वाला यह औषधीय पौधा आपने सड़क के किनारों पर या फिर पार्क में चलते फिरते जरूर देखा होगा। सत्यानाशी से बनाई जाने वाली दवाई हमारे शरीर के हर एक बीमारी के इलाज के लिए फायदेमंद है। जहां एक तरफ इसकी पत्तियां बुखार और मलेरिया से छुटकारा दिलाती है वहीं दूसरी तरफ इसकी जड़े पेशाब से जुड़ी समस्याओं को ठीक करने के काम आती है। सत्यानाशी में मिलने वाले पोषक तत्व जैसे सोडियम, पोटेशियम, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, fat, कैलोरी, विटामिन, फास्फोरस, फास्फेट, इत्यादि लाभदायक होते हैं।

सत्यानाशी इस्तेमाल करने का तरीका

चलिए अब जानेंगे सत्यानाशी के इस्तेमाल के बारे में:

  • सत्यानाशी की जड़ों की छाल से चूर्ण बनाकर उसके सेवन से आंतों के कीड़ों को नष्ट कर सकते हैं।
  • आप लोग  सत्यानाशी के पत्तों के रस को  निकालकर और दूध के साथ मिलाकर सुबह-शाम पी सकते हैं।
  • सत्यानाशी के पीले दूध को 10 ग्राम घी के साथ मिलाकर पेट के दर्द को दूर कर सकते हैं।

Also, Read कौंच बीज के फायदे (Kaunch Beej ke Fayde)

फायदे (Satyanashi ke fayde)

अब मैं आपको बताता हूं सत्यानाशी के फायदे(satyanashi ke fayde) के बारे में:

अस्थमा में सत्यानाशी के फायदे

सत्यानाशी के फायदे(satyanashi ke fayde) में सबसे पहला फायदा है, अस्थमा से दिलाएगा आप सभी को राहत। सत्यानाशी की दवाई हर एक बीमारी  के लिए इस्तेमाल में आती है। कई सारे ऐसे लोग हैं जिन्हें सांस लेने में तकलीफ होती है और वह अस्थमा के रोगी होते हैं। तो इन लोगों को  सत्यानाशी जड़ी बूटी का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। अस्थमा से गुजर रहे लोग इसके पौधे की जड़ को निकालकर अच्छे से धो लें और सुखाने के बाद इसकी जड़ का चूर्ण तैयार कर ले। आप लोग इस चूर्ण का सेवन गर्म दूध के साथ या पानी के साथ दिन में दो बार कर सकते हैं।

आंखों को स्वस्थ रखने में

सत्यानाशी के फायदे(satyanashi ke fayde) में दूसरा फायदा है, करेगा आपकी आंखों को स्वस्थ। कई लोग ऐसे होते हैं जिन्हें आंखों की समस्या हमेशा सताती रहती है। अगर आप भी आंखों की समस्या को लेकर परेशान हैं और कोई उपाय नहीं मिल रहा तो आप लोग एक बार  सत्यानाशी का इस्तेमाल जरूर करें। सत्यानाशी से निकलने वाले पीले दूध की एक बूंद घी के तीन बूंद के साथ में  मिलाएं। अब इसको आप अपनी आंखों में आई लाइनर की तरह लगा सकते हैं जो आपकी आंखों से जुड़ी समस्या को ठीक करने में मदद करेगा।

Also, Read अश्वगंधारिष्ट के फायदे (Ashwagandharishta ke fayde)

खांसी में सत्यानाशी के फायदे

सत्यानाशी के फायदे(satyanashi ke fayde) में तीसरा फायदा है, आपकी खांसी होगी छूमंतर। देशभर में कई लोग खांसी से जुड़ी समस्याओं को लेकर हमेशा चिंतित रहते हैं। लेकिन सत्यनाशी एक ऐसी जड़ी बूटी है जो आपकी इसी चिंता को दूर करेगा। आप लोग सत्यानाशी के पौधे को उबालकर उसमें से 500 मिलीलीटर रस को तैयार कर लें। जैसे ही रस गाढ़ा होने लगे उसमें 20 ग्राम राल और 60 ग्राम गुड मिला दे। इन सभी को मिलाने के बाद आप छोटी-छोटी गोलियां तैयार कर सकते हैं और इसका  सेवन 1 दिन में तीन बार कर सकते हैं।

पेशाब से जुड़ी समस्याओं में सत्यानाशी के फायदे

सत्यानाशी के फायदे(satyanashi ke fayde) में  चौथा फायदा है, आपकी पेशाब से जुड़ी समस्याओं को ठीक करना। पेशाब करते समय कई लोगों को जलन और अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन यह समस्याएं आपको ज्यादा दिक्कत ना दें इसलिए आपको सत्यानाशी का उपयोग करना चाहिए। आप लोग सत्यानाशी के पौधे  से बना काढा 1 दिन में 3 बार पी सकते हैं। यह आपकी मूत्र से जुड़ी समस्याओं को ठीक करने में मदद करेगा।

Also, Read च्यवनप्राश खाने के फायदे(Chyawanprash Khane ke Fayde)

सत्यानाशी करे पीलिया का सत्यानाश

सत्यानाशी के फायदे(satyanashi ke fayde) में पांचवा फायदा है,  सत्यानाशी करे पीलिया का सत्यानाश। लीवर की समस्या के कारण आप सभी को पीलिया  या फिर अंग्रेजी में कहा जाने वाला जौंडिस हो सकता है।  पीलिया के दौरान आपकी आंखें पीली हो जाती हैं और आपको कई सारी समस्याओं से जूझना पड़ता है। अगर आप भी उन्हीं लोगों में से एक हैं जिन्हें पीलिया हो गया है तो आप इसके इस्तेमाल से पीलिया से राहत पा सकते हैं। आप लोग 10 मिलीलीटर गिलोय के जूस में 8 से 10 बूंदे  सत्यानाशी तेल की मिला दें तो यह पीलिया से राहत दिलाने में मदद करेगा।

सत्यानाशी के नुकसान (Satynashi Ke Nuksan)

मैं आपको बताऊंगा सत्यानाशी के कुछ नुकसान के बारे में:

  • अगर कोई महिला प्रेग्नेंट है या फिर स्तनपान कराती है तो उनके लिए सत्यानाशी हानिकारक हो सकता है।
  • आप लोग अपने बच्चों को भी इससे दूर रखें।
  • अत्यधिक रूप में इस्तेमाल करने से सत्यानाशी नुकसान दे सकता है।
  • अगर आप को दस्त या फिर आंतों में सूजन है तो भी इसका सेवन ना करें।
  • सत्यानाशी के बीज से निकाला गया तेल विषैला होता है।

Also, Read नीम के फायदे (Neem ke Fayde)

FAQ:

सत्यानाशी का क्या उपयोग है?

सत्यानाशी के अनेक फायदे हैं जैसे डायबिटीज में लाभदायक, मूत्र से जुड़ी समस्याओं में लाभदायक, और खांसी से छुटकारा दिलाने में मदद  करता है।

सत्यानाशी की जड़ क्या काम आती है?

सत्यानाशी की जड़ का चूर्ण बनाकर कई सारे रोग ठीक हो सकते हैं।

सत्यानाशी कब लेना चाहिए?

सत्यानाशी रोगों के हिसाब से लेना चाहिए।

क्या मैं सत्यानाशी ले सकता हूं?

जी हां, आप सत्यानाशी का सेवन अपने रोगों  से छुटकारा पाने के लिए कर सकते हैं।

Also, Read Makhana Khane ke Fayde (मखाना खाने के फायदे)

1 thought on “सत्यानाशी के फायदे (Satyanashi ke fayde)”

Leave a Comment