तेज बुखार में क्या करना चाहिए

Spread the love

तेज बुखार में क्या करना चाहिए: नमस्ते दोस्तों हम स्वागत करते है आपका हमारे ब्लॉग पर और आज हम बात करने वाले है तेज बुखार में क्या करना चाहिए के बारे में। जब बुखार आता है तो आमतौर पर लोग इस से डर जाते है, लेकिन दोस्तो यह डरने वाला टॉपिक तो बिलकुल भी नहीं है। तेज बुखार में क्या करना चाहिए आज इस प्रोब्लम का जो समाधान हम आपको बताने वाले है उन्हे पढ़कर आपको जरुर मदद मिलेगी। लेकिन यह जानने के लिए आप हमारा यह पोस्ट अंत तक पढ़े क्या पता कोई उपाय यहां आपके लिए सबसे बेस्ट हो।

तेज बुखार में क्या करना चाहिए
तेज बुखार में क्या करना चाहिए

तेज बुखार में क्या करना चाहिए यह जानने से पहले दोस्तो हमें बुखार के बारे में समझना होगा कि बुखार क्या है और इसके होने के कारण क्या है।

Also, Read खर्राटे कैसे बंद करें (Kharate Kaise Band Kare)

बुखार होता क्या है?

हमारे शरीर का तापमान 98.6 फॉरेनहाईट डिग्री होता है। जब बॉडी का तापमान इस से ज्यादा हो जाए तो उसे बुखार कहते है। बुखार कोई रोग नहीं बल्कि यह एक लक्षण है जो यह संकेत देता है की बॉडी का तापमान कंट्रोल करने वाली प्रणाली ने शरीर का तापमान बढ़ा दीया है।

बुखार होने का कारण

बुखार होने के कई कारण होते है दोस्तो जैसे:

आमतौर पर देखा जाए तो बुखार तब होता है जब मौसम बदल रहा होता है और हमारे शरीर में संक्रमण वाले वायरस आ जाते है तथा वह हमे बीमार करते है। जैसे ही शरीर में बाहर से कोई कीटाणु आता है तो हमारा इम्यून सिस्टम उस कीटाणु या वायरस से लड़ने के लिए शरीर का तापमान बढ़ा देता है। क्योंकि इन वायरस के लिए ज्यादा तापमान अनुकूल नहीं होता है। ये ज्यादा देर तक तापमान में जीवित नहीं रह पाते है। और तपमान ज्यादा होने पर हमारा प्रतिरक्षा तंत्र हमारी सुरक्षा आसानी से कर पाता है।

लेकिन कई बार बुखार होने का कारण किसी ज्यादा घातक वायरस का हमारे शरीर में आ जाना भी होता है जैसे मलेरिया, डेंगू आदि। यह वायरस ऐसे है जो शरीर को बहुत ज्यादा प्रभावित करते है और इस परिस्थिति में हमारा इम्यून सिस्टम इनसे लड़ता है और बुखार समान्य से ज़्यादा हो जाता है। यदि आपके साथ ऐसा हो तो डॉक्टर से सलाह लें।

दोस्तो बुखार क्या होता है? क्यों होता है? यह तो हमने जान लिया अब तेज बुखार में क्या करना चाहिए  और इसके लक्षण क्या है। ज़रा इसके बारे में भी जान लेते है साथ ही बुखार होने पर क्या नहीं करना चाहिए इसके बारे में भी हम बात करेंगे।

Also, Read पैर के तलवे में जलन घरेलू उपाय (Pair Ke Talve Mein Jalan)

तेज़ बुखार के लक्षण

सर्दी लगना, पसीना आना, शरीर में पानी की कमी हो जाना, बुखार में व्यक्ति चिड़चिड़ा हो जाता है और खुद को बहुत वीक महसूस करता है।

तेज बुखार में क्या करना चाहिए उसके उपाय

पानी पिए

दोस्तो बुखार होने पर शरीर का तापमान ज्यादा हो जाता है जिसके कारण बॉडी हाइड्रेट नहीं रह पाती है और बॉडी में पानी की कमी होने लगती है। इसलिए जब बुखार हो पानी ज्यादा से ज्यादा पिए। यदि आपको पानी अच्छा ना लगे तो आप जूस भी पी सकते है लेकिन किसी भी फल का जूस बुखार में बीना पानी मिलाएं ना पिएं। आप उसका 1 अनुपात 1 का रेशों रखे यानी आधा ग्लास जूस और आधा ग्लास पानी।

ठंडे पानी की पट्टी करना

यह घर पर ही बुखार उतारने का सबसे घरेलू और पुराना तरीका है। बुखार आने पर एक साफ सूती कपड़ा ले और उसे गीला करे उसके बाद शरीर के हिस्सो पर जैसे सिर, हाथ पैरो पर उस गीले कपड़े को लगाएं। यह प्रक्रिया लगभग 10 से 15 मिनट तक करे आप देखेंगे कि आपका बुखार उतर रहा है।

Also, Read अलसी से मोटापा कम करने का तरीका

गिलोय का उपयोग

गिलॉय जिसे अमृता भी कहा जाता है क्योंकि यह कभी सूखती नहीं है और आसानी से सभी को अपने घर या आस पास में मिल जाती है। गिलोय आपके बुखार को उतारने के आलावा इम्यून सिस्टम को भी स्ट्रॉन्ग बनाती है। गिलोय का उपयोग करने के लिए एक इंच टुकड़ा गिलोय का ले और उसे कूट ले उसके बाद  बर्तन में एक ग्लास पानी गरम करे और उसमे कुटी हुई गिलोय डाल दे। उसके बाद उस पानी को तब तक उबाले जब तक पानी आधा ना हो जाए फिर उसे छानकर थोड़ा गुनगुना रहने पर पिए। यह स्वाद में आपको कड़वी लग सकती है लेकिन यकीन मानिए दोस्तो आपकी सेहत पर इसका असर मीठा ही होगा।

4. तुलसी

तुलसी जो ओषधियो में रानी कही जाती है। तुलसी का पौधा तो सबके घर पर आसानी से मिल जाता है और यही पौधा आपके बुखार को ठीक करने में रामबाण की तरह काम करता है। तुलसी का काढ़ा बनाने के लिए आपको तुलसी की 15 से 20 पत्तियां तोड़ लेना है उसके बाद अदरक का एक छोटा सा टुकड़ा घिसकर दोनो को पानी में उबाल लें पानी आधा रह जाए तब उसमे शहद मिलाकर पिएं।

Also, Read बच्चे के हाथ-पैर गर्म रहना क्या सामान्य हैं जानें

5. अदरक का उपयोग

अदरक में एंटीबेक्टिरीयल तत्व होते है जो कुदरती रूप से बुखार को कम करने में सहायता करते है।

एक कप पानी में अदरक डालकर उसे उबाल लें और आधा होने पर छानकर गुनगुना होने के बाद उसमें शहद मिलाकर पी ले।

6. आराम करे

जी दोस्तों बुखार में सबसे आसान काम जो आपको जरुर करना चाहिए वो है आराम करे और हल्के ढीले कपड़े पहने। जब आप आराम करेंगे तो इम्यून सिस्टम बेहतर तरीके से कीटाणुओ से लड़ पाएगा और उनके खिलाफ एंटीबॉडी भी बना लेगा क्योंकि आमतौर पर 2 या 3 दिन में बुखार खुद ही चला जाता है। लेकिन फिर भी आप घर पर रह कर ऊपर बताएं उपाय अपना सकते है और बुखार में राहत पाने में आपको इनसे सहायता मिलेगी।

Also, Read ढील मारने का उपाय(Dhil Marne ka Upay)

तेज़ बुखार में क्या नही करना चाहिए

तेज बुखार में आपको कुछ भी उल्टा सीधा खाने से बचना चाहिए क्योंकि कुछ खाद्य पदार्थों में ऐसे तत्व होते होते है जो बॉडी में इन्फेक्शन होने पर इसे और ज्यादा बढ़ावा देते है।

बुखार होने पर आप डेयरी प्रोडक्ट जैसे दही, छाछ और पनीर ना खाए उसके अलावा जंक फूड, तला हुआ भोजन, लाल मांस और चाय कॉफी जैसे केफीन युक्त खाद्य पदार्थ खाने से बचना चाहिए।

बुखार होने पर क्या खाए

  • सुबह नाश्ते में आप जूस ले सकते है बेहतर होगा अगर आप विटामिन सी युक्त फलों का जूस पिए।
  • दोपहर और रात में आप कोई भी हल्का भोजन जैसे मूंगदाल, दलिया, खिचड़ी आदि खा सकते है।
  • शाम को आप फिर से जूस या नारियल पानी पिए।

तेज़ बुखार होने पर डॉक्टर के पास कब जाएं

दोस्तों बुखार होने पर सबसे पहले आप अगर हो सके तो 3 दिन घर पर ही इंतजार करे क्योंकि अधिकतर बुखार बदलते मौसम और वायरल इन्फेक्शन की वजह से होता है जो 3 दिन में खुद ही कम हो जाता है। इसके लिए आप घर पर ही घरेलू उपचार अपना सकते है।

लेकिन कुछ मामलों में तेज बुखार बहुत तकलीफदेह हो सकता है जैसे किसी बड़ी बीमारी के होने पर या डेंगू जैसी समस्या आने पर ऐसे में यदि आपको आराम नहीं आ रहा है तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करे।

तो दोस्तो यह थी कुछ जानकारी तेज बुखार में क्या करना चाहिए के बारे में और हम यह आशा करते है की आपको हमारे द्वारा बताएं गए यह उपाय पसंद आए होंगे।

Also, Read Sukhi Khansi ka Gharelu Upay (सूखी खांसी के घरेलू उपाय)

FAQ

Q. बुखार कितने वक्त तक रहता है?

Ans: अधिकतम बुखार 3 दिन में खुद ही उतर जाता है। लेकिन कोई बड़ी समस्या होने पर यह ज्यादा दिन भी रह सकता है। ऐसी परिस्थिति में डॉक्टर से सलाह लें।

Q. बुखार उतारने की दवाई का नाम क्या है?

Ans: सबसे ज्यादा चर्चित और डॉक्टर द्वारा दी जानें वाली दवाई पेरासिटामोल है। लेकिन इसकी मात्रा अलग अलग होती है।

Q. बुखार ज्यादा गंभीर कब हो सकता है?

Ans: यदि बुखार 103° से उपर चला जाए तो।

तेज बुखार में करें यह काम

Also, Read स्क्रब करने के तरीके (Scrub Karne ka Tarika)

1 thought on “तेज बुखार में क्या करना चाहिए”

Leave a Comment