गर्भ में लड़का होने पर कहां दर्द होता है – लड़का होने पर होता हैं यहां दर्द

Spread the love

गर्भ में लड़का होने पर कहां दर्द होता है – लड़का होने पर होता हैं यहां दर्द – जब एक महिला प्रेग्नेंट होती हैं तब घर के लोगों में नए मेहमान को लेकर अक्सर चर्चा होती रहती हैं। घर में मौजूद लोग उत्सुकता वश यह जानने की कोशिश करते हैं आखिर नन्हा सा मेहमान लड़का हैं या लड़की। जब कोई महिला प्रेग्नेंट होती हैं तो इस दौरान उसे कई तरह की समस्यायों का सामना करना पड़ता हैं।

माना जाता हैं की गर्भ में लड़का होने पर महिलाओं के कुछ खास अंगों में ज्यादा दर्द होता हैं। हालांकि इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं हैं। पुराने समय में डॉक्टर की जगह दाई महिलाओं की डिलीवरी करवाती थी। दाई बच्चे के पैदा होने से पहले ही संकेतों के आधार पर यह बता देती थी की गर्भ में लड़का हैं या लड़की। आइये जानते हैं की गर्भ में लड़का होने पर कहां दर्द होता है और कौन-कौन से संकेत मिलते हैं।

गर्भ में लड़का होने पर कहां दर्द होता है - लड़का होने पर होता हैं यहां दर्द
गर्भ में लड़का होने पर कहां दर्द होता है – लड़का होने पर होता हैं यहां दर्द

आपको बता दे की अल्ट्रासाउंड के जरिए गर्भ में जेंडर की जांच की जा सकती हैं। भारत में जेंडर की जांच करना कानूनन अपराध हैं। इस पोस्ट में बताएं गए संकेत से आप अनुमान लगा सकते हैं की होने वाला बच्चा लड़का हैं या लड़की। गर्भ में लड़का होने पर गर्भवती महिला के कई हिस्सों में दर्द होता है साथ ही कुछ अन्य संकेत भी मिलते हैं। आइये विस्तार से जानते हैं की गर्भ में लड़का होने पर कहां दर्द होता है

गर्भ में लड़का होने पर कहां दर्द होता है

गर्भवती महिला के शरीर में हो रहे बदलाव और हार्मोनल चेंजेज शारीरिक दर्द का कारण बनते हैं। कुछ मान्यताओं के अनुसार शरीर के अलग-अलग भागों में अलग-अलग तरीके के दर्द से यह जाना जा सकता हैं की गर्भ में लड़का हैं या नहीं। फेस पर अधिक मुहांसे, अधिक खट्टा खाने की इच्छा, पेट का बाहर नीचे की ओर ज्यादा निकला होना आदि गर्भ में लड़का होने के लक्षण माने जाते हैं। इसी तरह माना जाता हैं की जब गर्भ लड़का होता हैं तो शरीर के कुछ ऐसे अंगों में दर्द देखा जाता हैं जो सामान्यत: लड़की होने पर दिखाई नहीं देते हैं। गर्भ में लड़का होने पर कहां दर्द होता है नीचे ध्यान से पढ़ें।

1. पेट के नीचले हिस्से में दर्द

माना जाता हैं की जब में लड़का होता हैं तो पेट बाहर की ओर ज्यादा निकला हुआ प्रतीत होता हैं। अगर पेट का झुकाव नीचे की ओर हैं तो यह लड़का होने के लक्षण हैं। पेट का झुकाव नीचे की ओर होने पर भार नीचले हिस्से पर ज्यादा पड़ता हैं। ऐसे में प्रेग्नेंट महिला को पेट की अन्य भागों की अपेक्षा नीचे ज्यादा दर्द की अनुभूति होती हैं। इस संकेत को लड़का होने के लक्षण के तौर पर देखा जाता हैं।

2. पीठ के सबसे नीचले हिस्से में दर्द

प्रेगनेंसी में शरीर के विभिन्न हिस्सों में दर्द का होना आम बात हैं। शिशु का तेजी से हो रहा विकास और शरीर में हो रहे अनेकों बदलाव दर्द का कारण बन सकते हैं। जैसे-जैसे शिशु का वजन बढ़ता हैं वैसे-वैसे मांसपेशियों पर भी प्रेशर बढ़ता हैं। ऐसे में दर्द पीठ और पेट में कभी-कभी दर्द का होना स्वाभाविक हैं। मान्यता हैं की अगर पीठ के नीचले हिस्से में सामान्य से थोड़ा ज्यादा दर्द हैं तो यह गर्भ में लड़का होने के संकेत हैं।

यह भी पढ़ें किस महीने में लड़का होता है / गर्भ में लड़का होने के संकेत

3. गर्भ में लड़का होने पर सर में अधिक दर्द होता है

गर्भ में लड़का होने पर महिलाएं बाई तरफ सोना ज्यादा कम्फरटेबल फील करती हैं। इस स्थिति में सोने पर सर दर्द की समस्या अधिक हो सकती हैं। यह भी एक मुख्य संकेत हैं की गर्भ में लड़का हैं। माना जाता हैं की जब गर्भ में लड़का होता हैं तो खाने की इच्छा कम होती हैं। ऐसे में कमजोरी की वजह से भी सर दर्द होता हैं। इसके अलावे यह भी कहा जाता हैं की शिशु लड़का होने पर महिला का स्वाभाव अधिक चिड़चिड़ा हो जाता हैं।

यह भी पढ़ें आठवें महीने में लड़के के लक्षण – बेबी बॉय के 7 प्रमुख लक्षण

4. गर्भ में लड़का होने पर पेट के दाहिनी ओर दर्द होता है

कुछ अनुभवी लोगों का कहना की लड़का पेट में दाएं तरफ होता हैं। गर्भ में लड़के का दाएं तरफ होना पेट के दाहिने हिस्से पर दबाव बनाता हैं। जिसके चलते महिला को पेट के दाहिनी ओर दर्द की अनुभूति होती हैं। दरसल कहा जाता हैं की लड़की पेट में बाएं और लड़का दाएं तरफ होता हैं। वही पेट के बाई ओर दर्द का होना लड़की होने के सिग्नल हैं।

5. मुहांसे होना और उसमें दर्द का होना

माना जाता हैं की गर्भ में लड़की होने पर मुहांसे कम या न के बराबर निकलते हैं। वही लड़का होने पर महिला के फेस पर मुहांसे अधिक देखने को मिलते हैं। मुहांसे में हल्का दर्द इस बात के संकेत माने जाते हैं की गर्भ में पल रहा बच्चा लड़का हैं।

यह भी पढ़ें शास्त्रों के अनुसार गर्भ में लड़का होने के लक्षण – 5 लक्षण जो खोलता हैं राज

नाभि गर्भ में लड़का किस साइड रहता है

नाभि गर्भ में लड़का किस साइड रहता है
नाभि गर्भ में लड़का किस साइड रहता है

नाभि गर्भ में लड़का स्थान बदलते रहता हैं। हालांकि कुछ लोगों का मानना हैं की की अगर में पल रहा शिशु लड़का हैं तो वह ज्यादात्तर पेट के दाएं हिस्से की तरफ होता हैं। आपको जानकारी के लिए बता दें की गर्भ में हर शिशु बाएं से दाएं और दाएं से बाएं ओर स्थान बदलते रहता हैं। शिशु के स्थान में परिवर्तन का कारण शिशु के बढ़ते वजन और आकार के कारण होता हैं।

पेट में लड़का हो तो क्या खाने का मन करता है

मान्यता हैं की पेट में जब शिशु के रूप में लड़का मौजूद होता हैं तो स्त्रियों के खान-पान में काफी परिवर्तन होता हैं। लड़की होने पर महिला को मीठा ज्यादा पसंद होता हैं। वही अगर पेट में लड़का हैं तो खट्टी चीजें जैसे संतरा, निम्बू, आचार, ईमली आदि ज्यादा खाने का मन करता हैं।

अन्य लक्षण पढ़ें

निष्कर्ष – गर्भ में लड़का होने पर कहां दर्द होता है

दोस्तों, इस पोस्ट में मैंने आपको बताया हैं की गर्भ में लड़का होने पर कहां दर्द होता है और क्या संकेत मिलते हैं। यह जानकारी मान्यताओं पर आधारित हैं। कुछ माताओं के अनुभव इस पोस्ट द्वारा शेयर किया गया हैं। गर्भवती महिला के शरीर में दर्द की वजह शिशु का तेजी से हो रहा विकास, शरीर की मांशपेशियों पर अधिक दबाव और पोषक तत्वों की कमी हो सकती हैं। मुझे आशा हैं की जानकरी आपको अच्छी लगी होगी। गर्भ में लड़का होने पर पेट का आकार ज्यादा बड़ा लगने लगता हैं। पैर गर्म रहने के बजाय ठंडी रहती हैं। ये सब लड़का होने के लक्षण माने जाते हैं।

मुझे उम्मीद हैं की आपको आज की यह पोस्ट ” गर्भ में लड़का होने पर कहां दर्द होता है – लड़का होने पर होता हैं यहां दर्द ” बेहद अच्छी लगी होगी। इस जानकारी को गर्भवती महिलाओं तक शेयर जरुर करें।

यह भी पढ़ें जुड़वा बच्चे लड़का लड़का होने के लक्षण – 5 लक्षण हैं गर्भ में जुड़वा बच्चे की पहचान

Leave a Comment