लिवर खराब की पहचान और लिवर का रामबाण इलाज जाने

Spread the love

लिवर खराब की पहचान और लिवर का रामबाण इलाज जाने – लिवर हमारे शरीर के सबसे जरुरी अंगों में से एक हैं जिसके खराब होने से व्यक्ति को कई तरह की समस्यायों का सामना करना पड़ता हैं। यह अंग पेट के अंदर राईट साइड में होता हैं। यह आपके द्वारा ग्रहण किये गए भोजन को पचाने में मदद करता हैं। साथ ही जरुरी पोषक तत्वों या उर्जा के भंडारण के लिए भी लिवर का स्वस्थ होना जरुरी हैं। लिवर का डैमेज होना कई कारणों से हो सकता हैं। अधिक शराब, कुछ खास दवाओं और तेल मसाले का सेवन भी आपके लिवर को खराब कर देता हैं। इस पोस्ट में मैंने आपको विस्तार से बताया हैं की लिवर खराब होने की प्रमुख वजह, पहचान और रामबाण इलाज क्या हैं।

लिवर खराब की पहचान और लिवर का रामबाण इलाज जाने
लिवर खराब की पहचान और लिवर का रामबाण इलाज जाने

फ्रेंड्स, लिवर टॉक्सिन को शरीर से निकालता हैं। लिवर शरीर के रक्त को फ़िल्टर करता हैं। यह होरमोंस जैसे एस्ट्रोजेन आदि का निर्माण भी करता हैं। आपके द्वारा ग्रहण किये गए भोजन से प्रोटीन एवं अन्य जरुरी पोषक तत्वों को शरीर के लायक बनाता हैं। जब आप शरीर को नुकसान पहुँचाने वाली चीजों जैसे शराब आदि का सेवन करते हैं तो लिवर को सामान्य से अधिक कार्य करना पड़ता हैं। लिवर द्वारा अवशोषित किये गए एल्कोहल और अधिक तैलीय चीजें सेल्स को डैमेज करने लगती हैं। आइये विस्तार से जानते हैं की लिवर खराब होने की पहचान क्या हैं और लिवर का रामबाण इलाज कैसे किया जाता हैं।

लिवर खराब होने के 10 लक्षण – लिवर खराब की पहचान

लिवर खराब होने के 10 लक्षण - लिवर खराब की पहचान
लिवर खराब होने के 10 लक्षण – लिवर खराब की पहचान

दोस्तों, लिवर के खराब होने की पहचान करना बेहद आसान हैं। जब आपका लिवर सही से काम नहीं करता हैं तो कई लक्षण दिखाई देते हैं। यह समस्या किसी भी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकती हैं। गलत-खानपान इस समस्या का सबसे बड़ा कारण हैं। आज के समय में युवाओं में यह दिक्कत सबसे अधिक देखी जा रही हैं। समय रहते अगर व्यक्ति खराब लिवर की पहचान कर लें तो गंभीर स्थितियों का सामना करने से बच सकता हैं। नीचे लिवर खराब होने के 10 लक्षण या लिवर खराब की पहचान के बारें में बताया गया हैं।

लिवर खराब की 10 पहचान

  • पेशाब का अधिक पीला होना
  • आँखों में पीलापन दिखाई देना
  • आंखों का फुला हुआ दिखना
  • बार-बार उल्टी लगना या उल्टी होना
  • बुखार और ठंड लगना
  • थकान और बहुत अधिक कमजोरी महूसस होना
  • वजन का तेजी से घटने लगना
  • भूख में भारी कमी और लैट्रिन होना
  • पेट के दाहिने साइड में दर्द और सुजन
  • शरीर की त्वचा का पीला पड़ना

इसके अलावे पैर में सुजन, नींद आने में परेशानी और मल के रंग में अचानक बदलाव जैसे लक्षण से भी खराब लिवर की पहचान की जा सकती हैं। जब लिवर खराब होता हैं तो व्यक्ति का लैट्रिन हरे कलर का या अत्यधिक पीले कलर का हो सकता हैं। ऐसी स्थिति में जल्द से जल्द इलाज आवश्यक हैं। अगर कोई व्यक्ति समय पर इसका इलाज नहीं करवाता हैं तो उसे कई गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। लिवर पूरी तरह डैमेज होने पर व्यक्ति की मौत भी हो जाती हैं। आइये जानते हैं की लिवर का रामबाण इलाज क्या हैं और इसके खराब होने के क्या हो सकते हैं।

लिवर खराब होने के कारण

दोस्तों, लिवर का खराब होना अनुवांशिक कारणों से भी हो सकता हैं। इसके अलावे अधिक मात्रा में शराब पीना और फैटी खाना भी आपके लिए को डैमेज करता हैं। इसलिए शराब के सेवन से बचने की कोशिश करनी चाहिए। शराब के सेवन से कई गंभीर लिवर की बीमारियाँ जैसे कैंसर, लिवर सिरोसिस आदि होते हैं। कुछ एंटीबायोटिक्स के लगातार सेवन से भी यह समस्या उत्पन्न हो सकती हैं। वायरस जैसे इबोला और hiv भी लिवर इन्फेक्शन के प्रमुख कारण हैं।

लिवर खराब होने पर व्यक्ति को खाने पीने का मन नहीं करता हैं। पाचन क्रिया बेहद स्लो हो जाती हैं जिसका असर आपके शरीर पर पड़ने लगता हैं। एक समय ऐसा आता हैं जब आप कुछ पचा पाने में असमर्थ हो जाते हैं। अधिक मोटापा भी लिवर को प्रभावित करता हैं। इसलिए ज्यादा वसा युक्त भोजन न करें। लगातार दवाओं के सेवन से लिवर में सुजन आ सकती हैं। दरसल यह लिवर के सेल्स को डैमेज करने लगती हैं।

लिवर का रामबाण इलाज

दोस्लितों, खराब लिवर की पहचान करने के बाद इसका इलाज जल्दी से जल्दी शुरू करना जरुरी हैं। लिवर के कार्यों को आप समझ ही चुके होंगे। लिवर बिना शरीर किसी काम का नहीं हैं। अत: अगर आपके लिवर में किसी तरह की समस्या हैं या लिवर खराब होने के कोई भी लक्षण दिखाई दे रहा हैं तो इसका इलाज आवश्यक हैं। मैंने नीचे आपको लिवर का रामबाण इलाज बताया हैं। आयुर्वेद में खराब लिवर को ठीक करने के लिए कुछ आयुर्वेदिक औषधियों के बारें में बताया गया हैं।

1. आंवला

आंवला में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। यह लिवर पर जमे हानिकारक फैट को हटाने में मदद करती हैं। अगर लिवर सही से काम नहीं कर रहा हैं और जौंडिस की समस्या अक्सर हो जाती हैं तो इसका सेवन आपके लिए लाभदायक हैं। आप चाहे तो कच्चे आंवले का सेवन भी कर सकते हैं। इसके अलावे बाजार में आंवला जूस भी ऊपलब्ध हैं। आयुर्वेदिक डॉक्टर के बताएं अनुसार आप आंवला जूस का सेवन कर सकते हैं। रोज 10 से 15 ml इस जूस के सेवन से लिवर सामान्य अवस्था में आने लगता हैं। इस जूस का सेवन खाली पेट पीना ज्यादा लाभदायक हैं। इस जूस का सेवन एक गिलास हल्के गर्म पानी में मिलाकर भी कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें आंवला खाने के फायदे (Awala Khane Ke Fayde)

2. एलोवेरा

एंटीऑक्सीडेंट्स गुणों से भरपूर एलोवेरा का सेवन भी लिवर की समस्या में फायदेमंद हैं। लिवर में इन्फेक्शन की समस्या होने पर इसका सेवन जरुर करें। एलोवेरा की ताजा पत्तियों के जेल को निकालकर जूस बनाकर इसका सेवन करना चाहिए। यह आपके पाचन को सुधारता हैं। सबसे पहले एलोवेरा की की हरी पत्तियों की उपरी छाल को हटाकर उसके जेल को निकाल लेना हैं। 3 से 4 चम्मच जेल को आधे कप हल्के गर्म पानी में मिलाकर रोज इसका सेवन करें।

यह भी पढ़ें एलोवेरा जूस के फायदे (Aloe Vera Juice ke Fayde)

3. पुनर्नवा

अगर आपके लिवर में सुजन हैं तो पुनर्नवा टेबलेट या इससे बने सिरप का सेवन कर सकते हैं। यह सुजन की समस्या को दूर करती हैं। मेडिकल स्टोर पर पुनर्नवा से बने टेबलेट और चूर्ण आदि आसानी से मिल जायेगा। इस जड़ी बूटी का इस्तेमाल लिवर से जुड़ी समस्यायों में पुराने समय से ही होता रहा हैं। यह लिवर को स्वस्थ रखने में मदद करेगी। इसका सेवन आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही करें।

इसके अलावे अन्य कई जड़ी बूटियों जैसे पिप्पली, हल्दी, त्रिफला, मुलेठी, अर्जुन की छाल आदि से भी लिवर संबंधी समस्यायों का इलाज किया जाता हैं। पतंजली की कुछ दवायें भी लिवर का रामबाण इलाज हैं।

यह भी पढ़ें पुनर्नवा के फायदे (Punarnava ke fayde)

लिवर का रामबाण इलाज पतंजलि

लिवर के इलाज के लिए पतंजली ने कई ऐसी आयुर्वेदिक दवाएं बनायीं हैं जिससे तुरंत लाभ मिलता हैं। लिवर का रामबाण इलाज के लिए पतंजली लिव अमृत टेबलेट का सेवन कर सकते हैं। यह दवा लिवर में सुजन होने और हेपेटाइटिस जैसे रोगों के इलाज में इस्तेमाल किया जाता हैं। इसके अलावे पतंजली दिव्य लिवो ग्रिट टेबलेट का इस्तेमाल से भी हर तरह के लिवर की समस्याओं में किया जाता हैं। इस टेबलेट को ऑनलाइन मध्याम से भी खरीदा जा सकता हैं। यह टेबलेट पीलिया जैसे लक्षण दिखाई देने पर उपयोग में लाया जाता हैं। इसे खाली पेट ही पानी के साथ खाना चाहिए। इसके सेवन से भोजन के पचने में परेशानी की समस्या भी दूर होती हैं। अधिक जानकारी के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लें।

इसबगोल के फायदे खराब लिवर के लिए

दोस्तों, इसबगोल का सेवन लिवर के रोग जैसे – लिवर सिरोसिस और हेपेटाइटिस में लाभदायक हैं। अगर आप इसका सेवन करेंगे तो पाचन दुरुस्त रहेगा। लिवर में सुजन या दर्द होने पर यह लाभ देता हैं। सिमित मात्रा में सुबह खाली पेट इसके सेवन से अतिरिक्त मोटापा कम होता हैं। यह लिवर से हानिकारक चीजों को बाहर निकालने में मदद करता हैं। इसका सेवन दूध या पानी के साथ कर सकते हैं। रात के समय थोड़ी सी भूसी को पानी या दूध में फूलने के लिए छोड़ दें। सुबह उठकर इसे रोज पिएं। ध्यान रहे की इसमें फाइबर अधिक होता हैं इसलिए सिमित मात्रा में ही इसका सेवन करें।

यह भी पढ़ें खाली पेट इसबगोल खाने के फायदे

सेब का सिरका लिवर के लिए

लिवर को डिटॉक्स करने में कारगर सेब का सिरका आपके लिए फायदेमंद हो सकता हैं। यह शरीर और लिवर में जमे फैट को हटाने का कार्य करता हैं। लिवर में सुजन और किसी अन्य प्रकार की समस्या होने पर सेब का सिरका और दालचीनी मिलाकर इसका सेवन करना चाहिए। इसका सेवन नाश्ते से पहले करें। गर्म पानी में मिलाकर इसका सेवन करना सबसे बेस्ट हैं।

यह भी पढ़ें एप्पल विनेगर के फायदे (Apple vinegar ke Fayde)

डॉक्टर से कब मिलना चाहिए

लिवर खराब होने की पहचान उसके लक्षणों के आधार पर की जाती हैं। अगर आपको इस पोस्ट में ऊपर बताएं गए लक्षण दिखाई देते हैं तो आयुर्वेदिक या अंग्रेजी डॉक्टर से मिलकर इसका इलाज जल्द से जल्द कराएं। ऊपर बताएं गए आयुर्वेदिक दवाओं की मदद से डॉक्टर इसका इलाज कर सकते हैं। इसके अलावे डॉक्टर व्यक्ति की स्थिति या रोग के अनुसार खून की जांच, अल्ट्रासाउंड, सिटी स्कैन करते हैं। गंभीर स्थिति में लिवर बायोप्सी के जरिए भी इसकी जांच की जाती हैं। इसमें लिवर के उत्तक का नमूना लेकर इसकी जांच की जाती हैं। लिवर का रामबाण इलाज

लिवर खराब होने पर क्या नहीं खाना चाहिए

इस समस्या में कुछ खाद्य पदार्थों के सेवन से तुरंत दुरी बना लेनी चाहिए। लिवर से जुड़ी किसी भी समस्या में दूध, शराब, चावल, कोल्डड्रिंक, अधिक नमक, अधिक तेल वाले खाद्य पदार्थ, मीट, जंक फ़ूड, अधिक चीनी, मैदा आदि से परहेज करना चाहिए। ऐसे भोजन लिवर के कार्य क्षमता को प्रभावित करता हैं और सुजन को बढ़ा देता हैं।

फैटी लिवर में चावल खाना चाहिए

चावल का अधिक सेवन निश्चित तौर पर नुकसान पहुंचा सकता हैं। दरसल चावल में प्रोटीन भी होता हैं। लेकिन अगर आप चावल का सेवन करना चाहते हैं ब्राउन राइस का ही सेवन करें। इसमें इसमें कई तरह के विटामिन्स और मिनरल्स होते हैं। साथ ही यह एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता हैं। ध्यान रहें की चावल को तेल में भूंजकर कभी न खाएं अन्यथा समस्या और अधिक बढ़ सकती हैं।

यह भी पढ़ें चावल खाने का सही समय ( Chawal Khane Ka Sahi Samay)

फैटी लिवर में टहलना चाहिए या नहीं

जी हाँ, फैटी लिवर की समस्या में टहलना लाभदायक हैं। रोज आधे घंटे टहलने से लिवर स्वस्थ रहता हैं। ध्यान रहें की अगर आप जौंडिस या हेपेटाइटिस से ग्रसित हैं तो बेड रेस्ट करना ज्यादा जरुरी हैं। हेपेटाइटिस में दौड़ने में ज्यादा चलने से समस्या बढ़ सकती हैं।

फैटी लिवर में दूध पीना चाहिए या नहीं

अधिक प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थो का सेवन फैटी लिवर में वर्जित हैं। दूध में प्रोटीन की मात्रा अधिक होती हैं इसलिए इसका सेवन नहीं करना चाहिए। अगर लिवर की समस्या में आप दूध का सेवन करते हैं तो इसका पाचन सही तरीके से नहीं हो पायेगा। अधिक प्रोटीन लिवर को और अधिक डैमेज कर देता हैं। खराब लिवर की पहचान या लक्षण जानने के बाद दूध का सेवन बंद कर देना चाहिए।

यह भी पढ़ें हल्दी वाला दूध किसे नहीं पीना चाहिए – जाने कब करता हैं नुकसान

फैटी लिवर में चिकन खाना चाहिए या नहीं

दोस्तों, फैटी लिवर में कुछ नॉनवेज फ़ूड न खाने की सलाह दी जाती हैं। हाई सैचुरेटेड फैट वाले नॉन वेज खाद्य पदार्थ लिवर के फैट को बढ़ा देते हैं। इसलिए मीट गलती से भी न खाएं। चिकन और मछली का सिमित मात्रा में सेवन करना हानिकारक नहीं हैं। दरसल इसमें सैचुरेटेड फैट न के बराबर होता हैं। ध्यान रहें की इन चीजों को बनाने में तेल मसाले का उपयोग किया जाता हैं जो लिवर को हानि पहुंचाते हैं। लिवर की समस्या में पाचन में भी परेशानी होती हैं। अगर आपका पाचन सही नहीं हैं तो इसका सेवन न करें।

फैटी लिवर में दही का सेवन करना चाहिए या नहीं

दही का सेवन फैटी लिवर में कर सकते हैं। परन्तु अगर आप भैंस के दूध से निर्मित दही का सेवन करते हैं तो हानि ज्यादा हो सकती हैं। अधिक वसा युक्त दूध से निर्मित दही से लिवर को भारी नुकसान पहुँच सकता हैं। लो फैट दूध से बनी दही लिवर को नुकसान नहीं पहुंचाता हैं।

फैटी लिवर में अंडा खाना चाहिए या नहीं

अंडा में कई तरह के विटामिन्स, आयरन, प्रोटीन आदि होते हैं। यह आपके शरीर को उर्जावान बनाएं रखता हैं। अंडे का उपरी भाग लिवर को हानि नहीं पहुचाता हैं। अंडे के आंतरिक अर्थात पीले वाले भाग में प्रोटीन अधिक होता हैं। इसलिए सिर्फ उजले वाले भाग का ही सेवन करें।

यह भी पढ़ें ऑपरेशन के बाद अंडा खाना चाहिए या नहीं / सिजेरियन ऑपरेशन के बाद पेट में दर्द क्यों होता है

निष्कर्ष – लिवर खराब की पहचान

दोस्तों, इस पोस्ट में मैंने आपको बताया हैं की लिवर खराब होने की पहचान क्या हैं। साथ ही मैंने बताया हैं की लिवर का रामबाण इलाज क्या हैं। लिवर में किसी तरह की समस्या होने पर खान-पान को लेकर सतर्क रहना चाहिए। गलत खान-पान आपकी समस्या को बढ़ा सकता हैं। इसलिए बाहरी खाद्य पदार्थो के सेवन से ज्यादा घर में बने बिना तेल मसाले वाले भोजन ही करें। इस समस्या में पाचन शक्ति कमजोर हो जाती हैं। लिवर की समस्या होने पर बचाव के साथ-साथ इलाज भी जरुरी होता हैं। सही समय पर इलाज न होने पर लिवर पूरी तरह से काम करना बंद कर सकता हैं।

मुझे आशा हैं की आपको आज की यह पोस्ट ” लिवर खराब की पहचान और लिवर का रामबाण इलाज जाने ” बेहद अच्छी लगी होगी। इस जानकारी को सोशल मीडिया पर जरुर से जरुर शेयर करें।

यह भी पढ़ें

1 thought on “लिवर खराब की पहचान और लिवर का रामबाण इलाज जाने”

Leave a Comment