सोते समय चक्कर आना गंभीर बीमारी के हैं लक्षण – सावधान

Spread the love

सोते समय चक्कर आना : क्या आप जानते हैं सोते वक्त चक्कर आने की समस्या गंभीर बीमारी के लक्षण हो सकते हैं। जी हाँ, सोते समय चक्कर आना आम बात नहीं हैं। अगर आपको भी इस समस्या का अक्सर सामना करना पड़ता हैं तो सावधान हो जाएँ। जैसा की आप जानते हैं की मानव शरीर में बीमारियाँ होना बेहद आम हैं यह आपके खानपान और गलत जीवनशैली के कारण होती हैं। खैर आज के इस आर्टिकल में हम आपको सोते समय चक्कर आना क्या हैं और क्यों इस स्थिति का सामना करना पड़ता हैं इसके बारें में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

सोते समय चक्कर आना गंभीर बीमारी के हैं लक्षण
सोते समय चक्कर आना गंभीर बीमारी के हैं लक्षण

अक्सर लोग सोते समय चक्कर आने की समस्या को नजरंदाज करते हैं। लेकिन समय रहते इस समस्या के कारणों का पता कर इसका इलाज नहीं किया जाता तो भविष्य में कई तरह के परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं। सोते समय चक्कर आना पोजिशनल वर्टिगो की वजह से भी हो सकता हैं। इसे बीपीपीवी भी कहा जाता हैं। इस समस्या में लेटने के दौरान या बेड पे करवट लेने के दौरान चक्कर आते हैं। तो आइयें पहले हम यह जान लेते हैं की बीपीपीवी हैं क्या?।

बीपीपीवी क्या हैं?

बीपीपीवी का फुल फॉर्म Benign Paroxysmal Positional Vertigo हैं। इस समस्या से ग्रस्त होने पर रोगी को चक्कर आने की शिकायत होती हैं। ज्यादात्तर मामलों में स्थान बदलते वक़्त लेटते वक्त या सोने के दौरान करवट लेने पर चक्कर आने की समस्या रहती हैं। यह समस्या स्त्री पुरुष किसी को भी प्रभावित कर सकती हैं। 45 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति में यह समस्या बहुत अधिक देखी जाती हैं परन्तु यह समस्या नौजवान को भी हो सकती हैं। यह रोग तब होता हैं जब हमारे कान की नलीयों संक्रमण हो जाता हैं। दरसल कान की नली तरल पदार्थ के साथ छोटे-छोटे कण घूमते रहते हैं जिसके कारण यह समस्या आती हैं। इसके अलावे यह सिर की चोट के कारण भी हो सकता हैं। सोते समय चक्कर आना अक्सर बीपीपीवी के कारण होता हैं।

Also, Read सब्जा बीज (Sabja Seeds in Hindi) के असीमित लाभ और सम्पूर्ण जानकारी

यहाँ जाने बीपीपीवी के लक्षण

पोजीशन वर्टिगो यानी बीपीपीवी की समस्या में आपको नीचे बताएं कुछ मुख्य लक्षण दिखाई दे सकते हैं:

  • बार-बार चक्कर आना
  • स्थान बदलने, करवट लेने, सोने के या लेटने के वक़्त चक्कर आना
  • जी मचलते रहना और कमजोरी जैसा महसूस होना
  • उल्टी की समस्या का होना या उल्टी करने का मन करना

आपको बता दे की बीपीपीवी की समस्या में सोते समय चक्कर आना आम हैं। इस समस्या में चक्कर महज कुछ सेकंड के लिए आटे हैं। लेकिन समय पर डॉक्टर से मिलकर इसका करवाना आवश्यक हैं। कई मामलों में यह समस्या खुद ही कुछ महीने या सप्ताह के बाद ठीक हो जाते हैं।

Also, Read दिमाग में बार-बार एक ही विचार आना क्या हैं इसके उपाय जानें

बीपीपीवी की समस्या होने के कारण

दोस्तों चुकीं यह समस्या व्यक्ति को सोते समय ज्यादा परेशान करती हैं इस कारण अक्सर ही लोग इसे नजरअंदाज करने की कोशिश करत हैं। लेकिन इस समस्या को नजरअंदाज करना घटक हो सकता हैं। आगे चलकर यह समस्या बड़ा रूप ले सकता हैं। इसलिए इसका इलाज बेहद जरुरी हैं आइये जानते हैं की इस समस्या के मुख्य कारण क्या हैं।

  • सर पर चोट की वजह से बीपीपीवी होना ज्यादात्तर मामलों में देखा जाता हैं
  • लगातार सोते रहने से या किसी अन्य बीमारी में लम्बे समय तक बेड रेस्ट करने से
  • ज्यादा उम्र होने के कारण
  • कान के नालियों में संक्रमण की स्थिति में
  • कान के ऑपरेशन के बाद कई बार यह समस्या देखी जाती हैं

हालाँकि सोते समय चक्कर आना सामान्य कारणों से भी हो सकता हैं जैसे सर्दी, शरीरिक कमजोरी, उच्च रक्तचाप, थकान, मानसिक टेंशन, नींद में कमी, भोजन न करने से, शरीर में पानी की कमी, हाइपोग्लाइसीमिया आदि। लेकिन ज्यादात्तर मामलों में करवट लेते वक्त चक्कर आना बीपीपीवी के कारण ही होता हैं।

Also, Read सब्जा बीज (Sabja Seeds in Hindi) के असीमित लाभ और सम्पूर्ण जानकारी

सोते समय चक्कर आना इस समस्या में क्या करें

सोते समय अगर आपको चक्कर आ रहे हैं तो कुछ घरेलु उपाय अपनाकर इस समस्या का तत्काल उपाय कर सकते हैं। परन्तु इस रोग के उचित इलाज के लिए डॉक्टर से संपर्क कर दवाओं का सेवन आवश्यक हैं।

पानी की कमी को पूरा करें

जी हाँ इस स्थिति में शरीर को हाइड्रेट करना बेहद जरुरी हैं। इस समस्या में अधिक से अधिक पानी पियें। आप चाहे तो फलों का रस का भी सेवन कर सकते हैं। यह आपके शरीर को हाइड्रेट कर चक्कर आने की सम्भावना को कम करेगा। इसके अलावे हल्का खाना खाएं जिसे आसानी से पचाया जा सके। आप फल का सेवन कर सकते हैं।

Also, Read सुंदरता बढ़ाने के लिए क्या खाना चाहिए – हमेशा दिखेंगे यंग

अचानक स्थान परिवर्तन करने से बचे

जी हाँ अक्सर देखा जाता हैं की स्थान परिवर्तन और करवट तेजी से लेने के कारण ही चक्कर आने की समस्या होती हैं। ऐसे में धीरे-धीरे उठे और करवट लेते समय जल्दबाजी न करें।

सोते समय चक्कर आना – व्यायाम करें और शांत रहें

व्यायाम की मदद से चक्कर आने की समस्या को कुछ हद तक रोका जा सकता हैं। लेकिन ज्यादा हार्ड व्यायाम बिल्कुल न करें। आप सुबह -सुबह टहलने की आदत डालने साथ ही शारीरिक गतिविधि जैसे पानी में तैरना आदि को भी शामिल कर सकते हैं। साथ ही यह ठन्डे वातावरण में रहें। यह गर्मी से आपको बचाकर चक्कर आने की समस्या से आपको राहत देगा।

डॉक्टर से कब दिखाएँ

जब स्थिति आपके नियंत्रण से बाहर हो जाएँ और बार-बार चक्कर आएं तो जल्द से जल्द डॉक्टर से मिलकर उचित सलाह ले और सुझाएँ गए दवाओं का सेवन करें। चिकित्सक आपके लक्षणों के आधार पे रोग के कारणों का पता कर उचित दवा लेने की सलाह देंगे।

दोस्तों सोते समय चक्कर आना एक बड़ी समस्या का संकेत हो सकता हैं इसलिए इसका इलाज अति आवश्यक हैं। चिकित्सक से संपर्क कर इसका इलाज करवाएं। इस समस्या का इलाज संभव हैं।

सोते समय चक्कर आना का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट के द्वारा जरुर बताएं। और इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर जरुर करें।

Also, Read हलीम बीज (Halim Seeds in Hindi) क्या फायदे जानकर हैरान हो जायेंगे

6 thoughts on “सोते समय चक्कर आना गंभीर बीमारी के हैं लक्षण – सावधान”

Leave a Comment