फाइलेरिया में क्या क्या नहीं खाना चाहिए – फाइलेरिया में परहेज

Spread the love

फाइलेरिया में क्या क्या नहीं खाना चाहिएफाइलेरिया इन हिंदी – फाइलेरिया एक ऐसी बीमारी हैं जो निमेटोड कीड़ों की वजह से होती हैं। इस बीमारी को हाथी पांव के नाम से भी जाना जाता हैं। यह बीमारी मुख्यत: मच्छरों के काटने से होती हैं। दरसल निमेटोड परजीवी कीड़े कुछ मच्छरों में मौजूद होते हैं। जब मच्छर काटते हैं तो यह कीड़ा आपके शरीर में प्रवेश करती हैं। निमेटोड परजीवी कीड़े देखने में किसी पतले धागे की तरह होते हैं। इस बीमारी के होने पर शरीर के कई हिस्सों में सुजन हो सकती हैं। शरीर सामान्य से अधिक फुला हुआ दिखाई देता हैं। जब इस समस्या से कोई व्यक्ति ग्रसित होता हैं तो उसके हाथ, पैर, स्तन, अंडकोष आदि में सुजन की समस्या हो जाती हैं। आइए जानते हैं की फाइलेरिया होने पर कैसे लक्षण दिखाई पड़ते हैं ?

फाइलेरिया में क्या क्या नहीं खाना चाहिए - फाइलेरिया में परहेज
फाइलेरिया में क्या क्या नहीं खाना चाहिए – फाइलेरिया में परहेज

दोस्तों, फाइलेरिया में क्या क्या खाना चाहिए और क्या नहीं यह जानना बेहद आवश्यक हैं। खान-पान में परहेज रखकर इस बीमारी को और ज्यादा गंभीर होने से रोक सकते हैं। इस बीमारी का इलाज आज के समय में भी पूर्णत: संभव नहीं हैं इसलिए देख रेख और बचाव करना जरूरी हैं। नीचे फाइलेरिया के लक्षण बताएं गए हैं साथ ही फाइलेरिया में क्या क्या नहीं खाना चाहिए इस बात का भी ध्यान रखें।

फाइलेरिया के लक्षण

जब कोई व्यक्ति इस बीमारी से ग्रसित हो जाता हैं तो निम्नलिखित लक्षण दिखाई दे सकते हैं :-

  • शरीर के कुछ अंगों जैसे स्तन, अंडकोष, हाथ और पैर में सुजन का होना
  • ग्रसित व्यक्ति की त्वचा का सामान्य से ज्यादा मोटा हो जाना
  • त्वचा के रंग में परिवर्तन के साथ-साथ त्वचा पर छाले का आना
  • इसके अलावे कुछ लोगों को फीवर और ठंड भी लगती हैं

अगर आपको भी ऊपर बताएं गए लक्षण दिखाई देते हैं तो जल्द से जल्द डॉक्टर से सम्पर्क करें। उचित समय पर इलाज से इसका बहुत हद तक बचाव संभव हैं। फाइलेरिया होने पर खान-पान पर भी विशेष ध्यान दें। नीचे बताया गया हैं की फाइलेरिया में क्या क्या नहीं खाना चाहिए ?

Also, Read टीबी क्या हैं – लक्षण, कारण इलाज और टीबी के इलाज के बाद सावधानियां

फाइलेरिया में क्या क्या नहीं खाना चाहिए – फाइलेरिया में परहेज

चूँकि फाइलेरिया होने पर व्यक्ति के शरीर में सुजन हो जाती हैं इसलिए खाने-पीने की गलत आदतों को दूर करना जरुरी हैं। अगर आपको भी यह समस्या हैं तो गंदे पानी, रेड मिट, ज्यादा वसा युक्त खाद्य पदार्थ, जंक फ़ूड आदि से बचना चाहिए। फाइलेरिया की वजह से अगर शरीर में घाव हैं तो गलती से भी मसालेदार खाना और खट्टी चीजें जैसे निम्बू, आचार आदि न खाएं। जख्म होने पर दूध से भी परहेज करना चाहिए।

Also, Read t3 और t4 सामान्य है लेकिन tsh अधिक है / क्या होता अगर tsh स्तर उच्च है

फाइलेरिया में क्या क्या खाना चाहिए

फाइलेरिया में क्या क्या खाना चाहिए
फाइलेरिया में क्या क्या खाना चाहिए

दोस्तों, फाइलेरिया में विटामिन A युक्त खाद्य पदार्थों के साथ-साथ प्रोटीन का सेवन करने की सलाह दी जाती हैं। लौंग, तरल चीजें, चिकन, अंडा, लहसुन, गाजर, दाल, मीठे फल जैसे शकरकंद और खुबानी जरुर दें। इसके अलावे भरपूर फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

फाइलेरिया का अचूक इलाज

यह बीमारी घरेलू उपायों से ठीक होने वाली बीमारी नहीं हैं। हालाँकि कुछ उपायों के द्वारा बचाव संभव हैं। इसके इलाज के लिए एंटीपैरासिटिक दवाएं दी जाती हैं। इसके अतिरिक्त गंभीर स्थितियों में सर्जरी करने के लिए डॉक्टर सलाह देते हैं। शरीर के जिन अंगों पर इसका प्रभाव ज्यादा हैं उसे साफ़ करते रहना चाहिए। साथ ही प्रभावित स्थान को किसी भी प्रकार के चोट से बचाएं।

फाइलेरिया में क्या क्या नहीं खाना चाहिए यह ध्यान में जरुर रखें। लक्षण दिखाई देने पर डॉक्टर से मिलकर उचित सलाह जरुर लें। डॉक्टर आपको खाने-पीने की चीजें लिस्ट में बनाकर देंगे। डॉक्टर द्वारा बताएं गए दवाओं का सेवन जारी रखें।

Also, Read नींद में पेशाब करने के सपने देखने के कारण – सपने में पेशाब करना कैसा होता है

फाइलेरिया से बचाव कैसे करें

  • फाइलेरिया जैसी गंभीर बीमारी से बचने के लिए हमेशा मच्छरदानी में सोना चाहिए
  • आपके आस पास कही गंदगी जमी हैं तो उसे साफ़ करते रहें
  • फाइलेरिया हो जाने पर ढीले चप्पल पहने
  • प्रभावित अंग को चोट से बचाएं रखें अन्यथा घाव हो सकता हैं

Also, Read नाक से खून आना किस बीमारी का लक्षण है

निष्कर्ष

मुझे आशा हैं की आज की पोस्ट फाइलेरिया में क्या क्या नहीं खाना चाहिए – फाइलेरिया में परहेज किन चीजों से करना चाहिए की यह जानकारी अच्छी लगी होगी। फाइलेरिया का इलाज सरकारी अस्पताल में मुफ्त में होता हैं। समय पर इलाज से बीमारी को बढ़ने से रोका जाता हैं। इस बीमारी के हो जाने पर खान पान को सही रखना बेहद जरुरी हैं। ज्यादा वसा युक्त पदार्थ जैसे तेल, घी आदि का सेवन कम करें।

मुझे उम्मीद हैं की आपको फाइलेरिया की जानकारी पसंद आई होगी। इस जानकारी को प्रभावित लोगों तक शेयर जरुर करें।

Also, Read किडनी की बीमारी के 10 संकेत – 10 बड़े संकेत हो जाएँ सावधान

Leave a Comment