पशुपति व्रत में नमक खाना चाहिए या नहीं

Spread the love

पशुपति व्रत में नमक खाना चाहिए या नहीं : नमस्कार दोस्तों आज हम जानेंगे कि पशुपति व्रत में नमक खाना चाहिए या नहीं दरअसल पशुपति का व्रत भगवान शिव को समर्पित है और यह धार्मिक एवं सांस्कृतिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है। पशुपति व्रत में नमक खाना चाहिए या नहीं इस बात को लेकर बहुत विवाद है इसमें अलग-अलग लोगों की अलग अलग विचारधारा होती है। कई सूत्रों से यह पता चलता है की इस व्रत को लेकर सबकी विचारधारा अलग है।पशुपति व्रत में नमक खाना चाहिए या नहीं से संबंधित इस आर्टिकल में आपको निम्न जानकारी प्रदान की जाएगी। 

पशुपति व्रत में नमक खाना चाहिए या नहीं
पशुपति व्रत में नमक खाना चाहिए या नहीं

प्रस्तावना:

  • 1. पशुपति व्रत का महत्व।
  • 2. पशुपति व्रत की विधि। 
  • 3. पाशुपति व्रत में नमक खाना चाहिए या नहीं। 
  • 4. पशुपत व्रत में दुध से बने उत्पाद ले सकते है क्या।
  • 5. पशुपति व्रत में क्या खाएं। 
  • 6. पशुपती के व्रत में क्या नही खाना चाहिए। 

• प्रस्तावना: पशुपति व्रत का महत्व:

पशुपति व्रत भगवान शिव जी को समर्पित होता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस व्रत की महिमा बहुत ज्यादा है। कहा जाता है की पशुपति व्रत को सच दिल के साथ किया जाए तो इस व्रत को करने वाले साधक की मनोकामना जरुर पुरी होती है। पशुपति का व्रत शिव जी को समर्पित होता है इसलिए इस व्रत को भी सोमवार के दिन ही किया जाता है। 

• पशुपति व्रत की विधि और पूजा

  • पशुपति का व्रत सोमवार के दिन रखा जाता है। जो व्यक्ति पशुपति का व्रत करता है उसे एक दिन पहले से ही ब्रह्मचर्य  पालन करना जरुरी होता है। सोमवार को सुबह सूरज निकलने से पहले उठकर शौच आदि से निवृत होने के बाद नहाने के पानी में गंगाजल मिलाकर स्नान करे। 
  • नहाने के बाद पूजा की थाली तैयार करे और पशुपति व्रत की पूजा की थाली में धूप, दीपक, फूल, भांग, धतूरा, बेलपत्र और पंचामृत ले। इसके बाद आप शिवालय जाए। 
  • आपको इस बात का ध्यान रखना होगा की आप पशुपति के पहले व्रत के दिन आप जिस मंदिर में का रहे है उसी मन्दिर में आपको चार सोमवार तक जाना है। 
  • उसके बाद आप शिवलिंग के सामने घी का दीपका जलाकर शिव जी को जल अर्पण करे। जल से अभिषेक करते हुए आपको मन में ही शिव जी के मंत्र का जाप करना होगा। और इसी दौरान आपको पूजा की शेष सामग्री शिवलिंग पर अर्पित करनी है। पूजा सामग्री चढ़ाने के बाद आप शिव जी को मिठाई से भोग लगाएं। 
  • यह भी पढ़े ऊटी में घूमने के स्थल

दीपक को दुरी पर रखें

  • इसके अलावा आप इस बात का ध्यान रखे की शिवलिंग के समक्ष जलाया जाने वाला दीपक आपको शिवलिंग से दूर रखना होगा उसे शिवलिंग पर रखना सही नहीं माना जाता है। 
  • सुबह की पूजा के बाद आप शाम को फिर से छह दिए लेकर मंदिर जाएं। इन छह दियो में से पांच आप मंदिर में जला दे और एक बचे हुए दिए को घर लाकर मेन गेट पर दाई तरफ़ जलाए। 
  • आपको साथ में मिठाई भी लेकर जानी होगी जिसके तीन हिस्से करके आप दो हिस्सो को मंदिर में अर्पित करे और एक हिस्से को घर ले आए और शिव जी के प्रसाद के रूप में उसे ग्रहण करके भोजन करे और अपने व्रत को पूरा करे। 
  • पूजा की यह विधि आपको लगातार पांच सोमवार तक दोहरानी होगी। 

Also, Read प्रेगनेंसी में दूध कब आता है – जाने विस्तार से

• पशुपति व्रत में नमक खाना चाहिए या नहीं, चलिए जानते है

पशुपति व्रत को लेकर कई विवाद है। यहां तक की आजकल इनरेंट पर आपको इस विषय में तरह तरह के अलग जवाब मिलेंगे। जिनमे यह दावा किया जाता है की आप पशुपति व्रत में नमक नहीं खा सकते। 

इसलिए बहुत सारे लोग इस बात से कन्फ्यूज रहते है की पशुपति व्रत में नमक खाना चाहिए या नहीं। लेकीन हम आपको बता की पौराणिक मान्यताओं के अनुसार यह कहा जाता है की शिव जी के किसी भी व्रत में नमक का सेवन नहीं करना चाहिए। लेकिन पशुपति एक मात्र ऐसा व्रत है जिनसे नमक का सेवन किया जा सकता है। लेकिन आपको इस बात की सावधानी रखने की ज़रूरत होगी की उपयोग में लिया जाने वाला नमक सिर्फ सेंधा नमक ही हो। सनातन धर्म में सेंधा नमक को शुद्ध नमक बताया गया है। 

इसके अलावा पशुपति व्रत में नमक का सेवन करना है या नहीं ये बात आपके संकल्प पर भी निर्भर करती है। आप चाहे तो नमक खा सकते है या फिर ना भी खाए। यह पूर्णतया आपकी मर्जी है। 

Also, Read लेटकर दूध पिलाने के नुकसान – जानकर हैरान हो जाएंगे।

• पशुपत व्रत में दुध से बने उत्पाद ले सकते है क्या

पशुपति व्रत में आप दूध पी सकते हैं और दूध से बनी हुई चीजों का भी सेवन कर सकते हैं लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि पशुपति व्रत में आप दही का सेवन नहीं कर सकते हैं। इसके अलावा आप चाहे तो दूध से बना पनीर या दूध से बनी हुई मिठाई खा सकते हैं।

Also, Read चिकन पॉक्स में दूध पीना चाहिए या नहीं

• पशुपति व्रत में क्या खाएं:

आजकल लोगों से भूख बहुत कम सहन होती है। ऐसे में यदि आपने पशुपति का व्रत रखा है तो आप पूजा के बाद शाम को साबूदाने की खीर बनाकर खा सकते हैं। इससे आपका व्रत खंडित होने से बच जाएगा और आप भूखे भी नहीं रहेंगे। पशुपति व्रत में आप मखाने की खीर बनाकर भी खा सकते हैं इससे आपको ऊर्जा मिलेगी बहुत सारे लोग पशुपति व्रत में इस खीर को खाते हैं।

पशुपति व्रत में आप मौसमी फलों का सेवन भी कर सकते हैं। लेकिन इस बात का ध्यान आपको रखना है कि आप खट्टे फल ना खाएं। क्योंकि पशुपति व्रत करने वाले जातकों को खट्टे फल खाने की मनाही होती है।इसके अलावा आप आलू का हलवा बनाकर भी खा सकते है। 

• पशुपति के व्रत में क्या नहीं खाना चाहिए:

  • पशुपति का व्रत करने वाले लोग मसालेदार भोजन नहीं कर सकते। 
  • खट्टी चीजे और खट्टे फल खाने की मनाही होती है। 
  • प्याज और लहसुन दोनो की प्रकृति तामसिक है इसलिए प्याज और लहसुन भी नहीं खाना चाहिए। 
  • सरसों का तेल पशुपति के व्रत में उपयोग में नहीं लिया जा सकता है। ना ही इसमें खाना बनाएं। 

पशुपति व्रत में नमक खाना चाहिए या नहीं से संबंधित इस आर्टिकल में हमने आपको पशुपति व्रत से जुड़ी सभी जानकारी एक ही स्थान पर बताने का प्रयास किया है। हम आशा करते है आपके लिए यह जानकारी उपयोगी साबित हुई होगी। इस आर्टिकल पर आने के लिए आपका धन्यवाद। दोस्तो ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हमारे आर्टिकल को लाईक शेयर जरुर करे और बने रहे अगले आर्टिकल में हमारे साथ। 

Also, Read हल्दी वाला दूध किसे नहीं पीना चाहिए – जाने कब करता हैं नुकसान

FAQ

Q. पशुपति व्रत क्यों किया जाता है?

Ans: पशुपति व्रत जातक अपनी मनोकामनापूर्ति या फिर किसी संकल्प के तहत करता है। इसके अलावा यह व्रत भगवान के प्रति अपनी भक्ति और प्यार के स्वरूप भी किया जाता है। 

Q. पशुपति व्रत करने वाले शाम को क्या खा सकते है?

Ans: साबूदाने की खीर, आलू का हलवा, दूध और फलों का सेवन कर सकते है। 

Q. पशुपति को क्यों महत्व पूर्ण माना जाता है?

Ans: पशुपति नाथ को नेपाली लोगो का रक्षक और इस पूरे ब्रह्मांड के रक्षक के रूप में जाना जाता है।

Also, Read  बेटे होने के 4 लक्षण : लक्षणों से जाने गर्भ में पल रहे बच्चे के बारें में