घबराहट आना दिल की धड़कन तेज होना सिर घूमना को नजरंदाज करना पड़ सकता हैं महंगा

Spread the love

घबराहट आना, दिल की धड़कन तेज होना, सिर घूमना आदि को को नजरंदाज करना पड़ सकता हैं महंगा – क्या आपको भी अक्सर घबराहट महूसस होती हैं। अगर हाँ तो इस पोस्ट को पूरा पढना बेहद जरुरी हैं। जब कोई व्यक्ति घबराहट जैसी समस्या अक्सर होती हैं तब हार्ट रेट काफी तेजी से बढ़ने लगता हैं। ऐसे में सर दर्द और चक्कर जैसी समस्या भी आम हैं। इस समस्या का निदान करना बेहद जरुरी हैं क्योकिं यह कुछ बड़े रोगों के संकेत हो सकते हैं। हालांकि यह समस्या सामान्य कारणों से भी हो सकती हैं। आइये जानते हैं की इन लक्षणों का मूल कारण क्या हैं और इसका इलाज कैसे किया जाता हैं।

घबराहट आना दिल की धड़कन तेज होना सिर घूमना को नजरंदाज करना पड़ सकता हैं महंगा
घबराहट आना दिल की धड़कन तेज होना सिर घूमना को नजरंदाज करना पड़ सकता हैं महंगा

जब कोई व्यक्ति छोटी-छोटी बातों पर चिंतित या भय से ग्रसित हो जाता हैं तो ऐसे में घबराहट महसूस करता हैं। कई बार व्यक्ति बीना कारण ही घबराया सा महसूस करता हैं। घबराहट किसी मानसिक बीमारी या नशे की लत के चलते भी संभव हैं। घबराहट होने पर दिल की धड़कन तेज होना , सिर घूमना , मुंह सूखना, छाती में दर्द जैसा अनुभव होना, पसीना आना, शरीर में अकड़न होना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। इस लेख में इसकी मेडिसिन और घरेलु उपायों के बारें में भी विस्तार से बताया गया हैं।

घबराहट होना और हार्ट रेट तेज होने के प्रमुख कारण

दिल की धड़कनों का अचानक बढ़ जाना और घबराहट महूसस होना निम्नलिखित कारणों के चलते होता हैं। इस समस्या के होने पर सर में दर्द की समस्या भी हो सकती हैं।

  • अत्याधिक सोचना जिसे ओवरथिंकिंग भी कहा जाता हैं। जब कोई व्यक्ति हर छोटी-छोटी बात पर अधिक सोचने लगता हैं तो ऐसी समस्या होती हैं।
  • किसी खास चीज से डर लगने की वजह से भी यह समस्या हो सकती हैं। कुछ लोग अंधेरे से डरते हैं तो कुछ लोग किसी किसी अनहोनी के होने की आशंका से भयभीत होते हैं। इस वजह से घबराहट महूसस होती हैं।
  • मानसिक बीमारी जैसे सिजोफ्रेनिया, एडीएचडी आदि भी इस समस्या का कारण हो सकता हैं।
  • अत्याधिक नशा करने से या लम्बे समय से चल रही कुछ दवाइयों के सेवन से भी घबराहट होती हैं।
  • एंग्जाइटी अटैक से भी घबराहट होना आम बात हैं। यह तब होता हैं जब किसी खास स्थान, चीज को लेकर मन में हमेशा डर या चिंता बनी रहती हैं।
  • एंग्जायटी में कोई भी काम में मन नहीं लगता हैं। दिल की धड़कन तेज हो जाती हैं और कभी-कभी सांस लेने में भी दिक्कत होती हैं।
  • अगर छाती में दर्द हैं और बार-बार चक्कर आ रहा हैं तो हृदय रोग के लक्षण भी हो सकते हैं।
  • अगर हार्ट में कई दिनों या महीनों से दर्द की समस्या के साथ-साथ घबराहट और सर दर्द हैं तो डॉक्टर से मिलना बेहद जरुरी हैं।

घबराहट आना दिल की धड़कन तेज होना और सिर घूमना इसका समाधान या इसे नार्मल करने का तरीका

अगर यह समस्या सामान्य कारणों से हैं तो तो इसे आप स्वयं भी नियंत्रित कर सकते हैं। परन्तु ध्यान रहे की अगर आपको यह समस्या कई दिनों से बनी हुई हैं तो डॉक्टर से मिलना बेहद आवश्यक हैं। एंग्जाइटी अटैक में हार्ट को कण्ट्रोल करने के लिए निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं।

गर्म पानी का सेवन

इस समस्या में गर्म पानी का सेवन बेहद लाभप्रद हैं। अगर दिल की धड़कन तेज हो गयी हैं और घबराहट महसूस हो रही हैं तो गर्म पानी जरुर पिएं। हल्का गर्म पानी धीरे-धीरे पीने से ब्लड फ्लो तेज होता हैं। इस वजह से धड़कने फिर से सामान्य होने लगती हैं। अगर ब्लड का संचार ठीक से ह्रदय तक नहीं हो पा रहा हैं तो इससे लाभ मिलता हैं।

ऑक्सीजन की कमी को करें पूरा

कई बार ऐसा होता हैं की गर्म हवा या प्रदूषित वातावरण के चलते हैं हृदय की धडकन अचानक बढ़ जाती हैं। दरसल पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन न मिलने के कारण घबराहट, बेचैनी और सर दर्द जैसी समस्या आम हैं। ऐसे में आपको ऐसे स्थान पर जाना चाहिए जहां ठंडी हवा चल रही हो। ठंडी हवा में ऑक्सीजन की मात्रा ज्यादा होती हैं जो आपकी समस्या को दूर करेगा।

अधिक सोचने से खुद को रोकें

ज्यादा चिंता करना सेहत को कई तरह से नुकसान पहुंचाती हैं। कुछ लोग छोटी-छोटी बातों को इतना सीरियसली ले लेते हैं की बीमारी का रूप ले लेता हैं। जब व्यक्ति आवश्यकता से अधिक सोचने लगता हैं तो तनाव या टेंशन की वजह से दिल की धड़कने तेज हो जाती हैं। ऐसे में सर दर्द और घबराहट होती ही हैं। आपको मन को नियंत्रित करने की आवश्यकता होगी। खुद ऐसे कार्य में व्यस्त रखने की कोशिश करें जिसमें आपको मन लगता हो। जी हाँ, खुद को किसी मनपसंद कार्य में व्यस्त रख हृदय की गति को सामान्य किया जा सकता हैं।

घबराहट आना दिल की धड़कन तेज होना सिर घूमना ko मेडिसिन batabe

इस समस्या में धुम्रपान और शराब के सेवन से बचना चाहिए। इस स्थिति में दवाओं से ज्यादा संतुलित आहार और भरपूर पानी पीने की आवश्यकता होती हैं। इसके अलावे रोज सुबह-सुबह टहलना और व्यायाम करना भी बेहद जरुरी हैं। शराब के सेवन से हार्ट पल्पिटेशन की समस्या अक्सर ही देखी जाती हैं। इस समस्या में ज्यादा चीनी, कैफीन, ज्यादा नमक हानि पहुंचा सकती हैं। कम प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थ का सेवन इस स्थिति में सबसे लाभदायक हैं। फाइबर, विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर भोजन करना बेहद जरुरी हैं। इसके अलावे खूब पानी पिएं। इसका इलाज थेरेपी की मदद से डॉक्टर करते हैं। कॉगनिटिव विहेवियरल थेरेपी और एक्सपोज़र थैरेपी की मदद से इस परेशानी को दूर करने का प्रयास किया जाता हैं। थेरेपी की मदद से डर पर काबू करने की कोशिश की जाती हैं।

डॉक्टर इस समय के के उपचार के लिए कई तरह के मेडिसिन दे सकते हैं जैसे – बुस्पिरोन, नोआक्सीट टैबलेट, बेंजोडायजेपाइन, अल्प्राज़ोलेम आदि। ध्यान रहे की इन दवाओं का सेवन बीना डॉक्टर के सलाह के करना खतरनाक हो सकता हैं। डॉक्टर से उचित सलाह के बाद ही इस दवा का सेवन किया जाना चाहिए।

निष्कर्ष – घबराहट आना दिल की धड़कन तेज होना सिर घूमना ko मेडिसिन batabe

निष्कर्ष - घबराहट आना दिल की धड़कन तेज होना सिर घूमना ko मेडिसिन batabe
निष्कर्ष – घबराहट आना दिल की धड़कन तेज होना सिर घूमना ko मेडिसिन batabe

इस पोस्ट में मैंने आपको बताया हैं की घबराहट आना दिल की धड़कन तेज होना सिर घूमना किन कारणों से होता हैं और इसकी मेडिसिन क्या हैं। इस पोस्ट में मैंने इस समस्या के सभी कारणों को विस्तार से बताया हैं। अगर यह समस्या कई दिनों से हैं तो जल्द से जल्द डॉक्टर से मिलकर इलाज करवाना चाहिए। डॉक्टर कुछ थेरेपी और दवाइयों की मदद से इस समस्या का इलाज करते हैं।

मुझे आशा हैं की आपको आज की यह पोस्ट ” घबराहट आना दिल की धड़कन तेज होना सिर घूमना ko मेडिसिन batabe
” बेहद अच्छी लगी होगी। इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा शेयर जरुर करें।

यह भी पढ़ें

Leave a Comment