मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना किस बीमारी के हैं लक्षण जाने

Spread the love

मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना किस बीमारी के हैं लक्षण जाने – मुंह का स्वाद बदलना कोई बड़ी समस्या नहीं हैं। कभी-कभी जीभ में जलन के साथ मुंह का स्वाद भी बदल जाता हैं। इस स्थिति में इस समस्या का इलाज जरुरी हैं। मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना हार्मोनल परिवर्तन और शरीर में महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की कमी के कारण हो सकता हैं। विटामिन बी की कमी के चलते यह समस्या अक्सर देखी जाती हैं। इसके अलावे भी कई कारण हो सकते हैं। जब जीभ में जलन के साथ मुंह का स्वाद बदलता हैं तो इस स्थिति को बीएमएस कहते हैं। बीएमएस का फुल फॉर्म बर्निंग माउथ सिंड्रोम होता हैं। आइए जानते हैं की मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना किन कारणों से होता हैं।

मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना किस बीमारी के हैं लक्षण जाने
मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना किस बीमारी के हैं लक्षण जाने

दोस्तों, मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना नसों के कार्य प्रभावित होने के संकेत हैं। ज्यादात्तर मामलों में जहां जलन होती हैं वहा की त्वचा में कोई बदलाव नहीं देखने को मिलता हैं। प्रभावित स्थान में दर्द और जलन ज्यादा होने लगती हैं। जिनकी इम्युनिटी कमजोर होती हैं उनमें यह समस्या अक्सर देखी जाती हैं। नीचे विस्तार से बताया गया हैं की मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना किन कारणों से संभव हैं।

मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना – जीभ में जलन क्यों होती है

मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना - जीभ में जलन क्यों होती है
मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना – जीभ में जलन क्यों होती है

जिन लोगों को यह समस्या होती हैं उन्हें खाने का स्वाद अजीब सा लगता हैं। साथ ही जलन दिन प्रतिदिन बढ़ता चला जाता हैं। मुंह में पर्याप्त तरल होने के बावजूद शुष्क प्रतीत होता हैं। यह समस्या स्त्री और पुरुष और बच्चे किसी को भी हो सकता हैं। हालाकिं यह समस्या ज्यादात्तर अधिक उम्र के लोगों में दिखाई देती हैं। मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना निम्नलिखित कारणों से हो सकती हैं।

  • जीभ में जलन और स्वाद में बदलाव का कारण नसों की क्षति हो सकती हैं।
  • मानसिक बीमारी या अवसाद भी इसका कारण हैं।
  • किडनी और लीवर सम्बन्धी बीमारियों में भी जीभ का स्वाद बदल जाता हैं।
  • शुगर के पेशेंट में होने वाले हार्मोनल चेंजेज इस समस्या का कारण बन सकती हैं।
  • ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए दी जाने वाली दवाइयां के सेवन से भी यह समस्या होती हैं।
  • शरीर में विटामिन बी की कमी
  • जीभ में फंगल इन्फेक्शन की वजह से यह समस्या होती हैं।
  • थायरॉयड होर्मोंस के असंतुलित होने से
  • एसिड रिफ्लक्स होने पर भी मुंह का स्वाद कड़वा हो जाता हैं।

अगर मुंह का स्वाद जीभ में जलन के साथ मुंह का स्वाद बदलता हैं और यह कई दिनों या महीनों से हैं तो सावधान हो जाएं। यह बीमारी समय के साथ बढ़ सकती हैं। कुछ मामलों में यह समस्या कई सालों तक रहती हैं। प्रभावित स्थान के साथ-साथ पुरे मुंह में जलन और दर्द महसूस हो सकता हैं। आइए आपको बताते हैं की मुंह का स्वाद बदलने के साथ-साथ जलन होने पर क्या करना चाहिए।

यह भी पढ़ें मुंह का स्वाद गायब होने के लक्षण और 5 घरेलु उपाय

मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन का इलाज कैसे किया जाता हैं

अगर आपको यह समस्या कई महीनों से बनी हुई हैं तो इलाज बेहद जरुरी हैं। डॉक्टर स्थिति को देखते हुए कुछ टेस्ट करवाने की सलाह दे सकते हैं। जांच में ब्लड टेस्ट, एलर्जी टेस्ट, मुंह में बनने वाले लार का टेस्ट कर सकते हैं। अगर समस्या फंगल इन्फेक्शन के कारण हैं तो कैंडिड जैसी दवाएं लिख सकते हैं। कई बार यह समस्या अवसाद के कारण भी होती हैं ऐसे में इससे जुड़ी दवाइयां भी डॉक्टर लिख सकते हैं। ब्लड टेस्ट के जरिये डॉक्टर मधुमेह, थायरोइड जैसी बिमारियों की स्थिति का पता कर सकते हैं। जांच के बाद ही सही इलाज संभव हैं।

मुंह का स्वाद और जलन ठीक करने के घरेलू उपाय

अगर आपको यह समस्या महज कुछ ही दिनों से हैं तो घरेलु उपाय आजमा सकते हैं। घरेलु उपायों से भी मुंह के स्वाद और जीभ के जलन को कम किया जा सकता हैं। ध्यान रहे की तम्बाकू और खट्टे फल खाने से बचना चाहिए। अल्कोहल युक्त पदार्थों के सेवन से भी यह समस्या बढ़ सकती हैं। तेज जलन होने पर बर्फ के छोटे टुकड़े को जीभ पर रख सकते हैं। मुंह का स्वाद और जलन ठीक करने के लिए नीचे बताएं गए घरेलू उपाय जरुर आजमाएं।

1. एलोवेरा

एंटीमाइक्रोबियल गुणों से भरपूर एलोवेरा का उपयोग स्किन संबंधी समस्यायों को दूर करने में किया जाता हैं। यह ठंडे प्रकृति का होता हैं। यह नसों कोठंडक प्रदान करेगा। इसका उपयोग मधुमेह के इलाज में भी किया जाता हैं। एलोवेरा में विटामिन बी 12 भी मौजूद होता हैं। इसके अलावे इसमें जिंक और आयरन भी हैं। इन जरुरी पोषक तत्वों की कमी से जलन जैसी समस्या होती हैं। ऐसे में इसका सेवन बेहद फायदेमंद हैं। इसमें मौजूद विटामिन सी इम्युनिटी को बूस्ट करता हैं। एलोवेरा के ताजे जेल को निकालकर जीभ पर रखकर चबाएं। ऐसा प्रतिदिन करने से इस समस्या से निजात मिलता हैं। इसका सेवन स्वाद को फिर से बहाल करता हैं।

यह भी पढ़ें मुंह की दुर्गंध भगाने के 8 तरीके – मुंह की बदबू का कारण

2. मुंह को साफ़ रखें

बैक्टीरिया और फंगस के कारण भी यह समस्या हो सकती हैं। ऐसे में ठंडे पानी से कुल्ला करना फायदेमंद हैं। यह आपको जलन से भी राहत प्रदान करेगा। मुंह को साफ़ रखना जरुरी हैं। रोजाना ब्रश करें और जीभ को धीरे-धीरे सूती कपड़े से साफ़ करने की कोशिश करें। जलन होने पर गर्म पानी के सेवन से बचना चाहिए। जीभ को साफ़ करने के लिए नमक का उपयोग किया जा सकता हैं। नमक को जीभ पर रखकर हल्का हल्का रगड़ने से स्थिति में सुधार देखा जाता हैं।

यह भी पढ़ें मुंह में छाले के उपाय – 6 सबसे बेहतरीन और आसान उपाय

3. विटामिन बी 12 और पोषक तत्वों से युक्त भोजन करें

खाने में ज्यादा तेल मसाले और अम्लीय चीजों से दुरी बनाएं। टमाटर, निम्बू आदि का सेवन न करें। भोजन में मीट, मछली और दूध का सेवन जरुर करें। इनमें भरपूर मात्रा में विटामिन बी 12 होता हैं। विटामिन , आयरन और जिंक से युक्त हरी पत्तेदार शब्जियां बिना तेल मसाले के पकाकर खाएं। टोफू, नट्स, अनाज, अंडे, मीट, काजू, बादाम, दूध और पालक में भरपूर आयरन और जिंक होता हैं। इसके अलावे विटामिन डी से युक्त फल और शब्जियां भी इस समस्या से निजात दिलाने में मदद कर सकती हैं। इसलिए मशरूम, अंडा, पालक, पनीर आदि का सेवन कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें सबसे ज्यादा विटामिन डी किसमें होता है (Sabse Jyada Vitamin D Kisme Hota Hai)

4. टेंशन

तनाव अधिक लेने से भी इस समस्या के होने के चांसेज बढ़ जाते हैं। खुद को टेंशन से दूर रखने का प्रयत्न करें। टेंशन से मुंह सूखने लगता हैं। लार की कमी से यह समस्या जन्म ले सकती हैं। इसलिए रोज सुबह उठकर व्यायाम और योग कर सकते हैं। अगर तनाव अधिक हैं तो डॉक्टर से जरुर दिखाएं। अवसाद की स्थिति में व्यक्ति का मष्तिष्क की कार्यक्षमता प्रभावित होती हैं। आप चाहे तो टेंशन से दूर कही घुमने भी जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें घबराहट आना दिल की धड़कन तेज होना सिर घूमना को नजरंदाज करना पड़ सकता हैं महंगा

5. खूब पानी पीना हैं जरुरी

यह समस्या कम पानी के सेवन के वजह से भी हो सकती हैं। कुछ लोग बेहद कम पानी का सेवन करते हैं। ऐसे में यह समस्या आपको प्रभावित कर सकती हैं। लार की कमी रोगी के मुंह को ड्राई कर देता हैं। भरपूर पानी इस स्थिति से निजात दिलाता हैं। पानी के अलावे जूस का सेवन भी किया जा सकता हैं। ध्यान रहे की जूस में चीनी की मात्रा कम हो तो ज्यादा बेहतर हैं।

यह भी पढ़ें

निष्कर्ष – मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना

दोस्तों, इस पोस्ट में मैंने आपको बताया हैं की मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना किस बीमारी के हैं लक्षण हैं। इस स्थिति में डॉक्टर जिंक, आयरन और बी12 युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने की सलाह देते हैं। यह समस्या खान-पान की कमी के चलते अक्सर होता हैं जो कुछ समय पश्चात स्वत: भी ठीक हो जाता हैं। अगर यह समस्या लगातार बनी हुई हैं तो इलाज जरुरी हैं। शरीर को हाइड्रेट रखें। मुंह की साफ़-सफाई धीरे-धीरे करें। कई लोग तेजी से ब्रश को जीभ और मसुढ़ों पर घुमाते हैं जिससे त्वचा पर घाव बन सकता हैं। इसलिए ब्रश हल्के हाथों से ही करें।

मुझे आशा हैं की आपको आज की यह पोस्ट ” मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना किस बीमारी के हैं लक्षण जाने ” बेहद अच्छी और उपयोगी लगी होगी। इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरुर से जरुर शेयर करें।

यह भी पढ़ें बहुत ज़्यादा गर्मी लगना इन रोगों के हैं लक्षण – जानकर हैरान हो जायेंगे

1 thought on “मुंह का स्वाद बदलना और जीभ में जलन होना किस बीमारी के हैं लक्षण जाने”

Leave a Comment