शिवलिंग पर काली मिर्च चढ़ाने के फायदे – शिवलिंग पर काले तिल चढ़ाने चाहिए या नहीं

Spread the love

शिवलिंग पर काली मिर्च चढ़ाने के फायदे – हिन्दू धर्म में भगवान शिव की पूजा उनके मूर्ति स्वरुप और शिवलिंग के रूप में भी किया जाता हैं। भगवान शिव की पूजा शास्त्रों के अनुसार बहुत फलदायक और शांति प्रदान करने वाला हैं। कहा जाता हैं जी शिवलिंग पर जल और बेलपत्र चढाने से भक्तों की हर इच्छा पूरी होती हैं। भगवान शिव को देवों का देव महादेव भी कहा जाता हैं। महादेव त्रिदेवो में से एक हैं जिन्हें विनाश का देवता या महाकाल भी कहा जाता हैं। हिन्दू धर्म में शिवलिंग की पूजा का एक विशेष महत्त्व हैं। शिवलिंग का अर्थ शिव और सृजन से हैं। शास्त्रों के अनुसार शिव लिंग की सबसे पहले पूजा ब्रह्मा और भगवान श्री हरी विष्णु जी ने की थी।

शिवलिंग पर काली मिर्च चढ़ाने के फायदे - शिवलिंग पर काले तिल चढ़ाने चाहिए या नहीं
शिवलिंग पर काली मिर्च चढ़ाने के फायदे – शिवलिंग पर काले तिल चढ़ाने चाहिए या नहीं

कथा के अनुसार जब भगवान विष्णु और ब्रह्मा जी उर्जा स्वरुप में शिवलिंग के अंत ढूंढने की कोशिश करते हैं तो उन्हें इस अग्नि स्वरूप लिंग का कोई अंत दिखाई नहीं देता हैं। उसके बाद दोनों शिवलिंग की आराधना करते हैं जिससे शिव प्रसन्न होते हैं। शिव लिंग की पूजा काली मिर्च अर्पित कर भी किया जाता हैं। इस पोस्ट में मैं आपको शिवलिंग पर काली मिर्च चढ़ाने के फायदे के साथ-साथ अन्य कई ऐसे ही प्रश्नों के उत्तर देने जा रही हूँ इसलिए इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़ें।

शिवलिंग की स्थापना

शिवलिंग की स्थापना को लेकर शास्त्रों में कहा गया हैं की जब ऋषि मुनि तपस्या कर रहे थे तो तेज हवा के झोके से वहा प्रज्वलित दीपक बुझ जा रही थी। उनकी सच्ची श्रधा और अच्छे उदेश्य से की जा रही पूजा को सफल करने के लिए भगवान शिव ने स्वयं ज्योति रूप में शिवलिंग को वहा स्थापित किया था। शिवलिंग की पूजा करने का एक विशेष तरीका होता हैं। पूजा करते वक्त क्या कैसे और किन चीजों से शिवलिंग की पूजा करनी चाहिए यह जानना आवश्यक होता हैं। सामान्यत: शिवलिंग की पूजा जलाभिषेक और दूध के साथ-साथ बेलपत्र से की जाती हैं।

शिवलिंग की पूजा करने के सबंध में लोग अक्सर नीचे बताएं गए सवाल जैसे : शिवलिंग पर काली मिर्च चढ़ाने के फायदे क्या हैं , शिवलिंग पर काले तिल चढ़ाने चाहिए या नहीं, शिवलिंग पर काले तिल चढ़ाने चाहिए या नहीं आदि करते हैं। आइये इस पोस्ट के माध्यम से आपको विस्तार से इसकी जानकारी देते हैं।

Also, Read सूर्य को जल किस दिन नहीं चढ़ाना चाहिए – जल चढाने के फायदे

शिवलिंग पर काली मिर्च चढ़ाने के फायदे

शिवलिंग पर काली मिर्च चढाने से मानसिक परेशानी दूर होती हैं साथ ही नकारात्मक शक्ति से आप सुरक्षित रहते हैं। शिवलिंग की पूजा अगर काली मिर्च के साथ बेल पत्र और घी चढ़ाकर किया जाएँ तो इससे शत्रु आपसे दूर रहेंगे। काली मिर्च शिवलिंग पर चढाने के बाद उस काली मिर्च को उठाकर पीपल के पेड़ के पास रख देना चाहिए। कहा जाता हैं की जो लोग 3 सोमवारी तक इस उपाय को करते हैं उन्हें शिव कृपा प्राप्त होती हैं और दुश्मन से कोई खतरा नहीं रहता हैं।

Also, Read रसोई घर में मंदिर बनाना चाहिए या नहीं – जल्दी पढ़ें

शिवलिंग पर काले तिल चढ़ाने चाहिए या नहीं

ज्योतिष शास्त्रों में कहा गया हैं की काला तील भगवान शिव को अतिप्रिय हैं। काले तिल को शिवलिंग पर चढाने से राहू, केतु और शनि दोष से छुटकारा मिलता हैं। काले तील के तेल का दीपक भी शिव के समक्ष जलाने से राहू केतु दोष दूर होता हैं। दरसल काले तील से भगवान शिव अत्यंत प्रसन्न होते हैं और भक्तों पर अपनी कृपा बनायें रखते हैं।

शिवलिंग पर कितने बेलपत्र चढ़ाने चाहिए

कहते हैं जो लोग शिवलिंग पर बेलपत्र और जल चढाते हैं उनकी हर मनोकामनाएं पूरी होती हैं। शिवलिंग पर बेलपत्र चढाने के कुछ नियम हैं जिसका पालन आवश्यक हैं। सोमवार के दिन किसी भी हालत में बेल के पत्तो को नहीं तोडना चाहिए। मान लीजिये की आपको कल भगवान शिव की पूजा करनी हैं तो एक दिन पहले ही पत्तों को तोडकर रख ले। शिवलिंग पर बेल के पत्ते उल्टा कर नहीं चढ़ाना चाहिए। देवो के देव महाकाल भगवान शिव के शिवलिंग पर आप 3 से 11 पत्ते चढ़ा सकते हैं।

Also, Read शिवलिंग पर चढ़ा हुआ जल पीना चाहिए या नहीं – विस्तार से जाने

शिवलिंग पर क्या नहीं चढ़ाना चाहिए

शिवलिंग की पूजा करते वक़्त कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। शिवलिंग पर हल्दी, रोली, शंख, तुलसी के पत्ते आदि नहीं चढाने चाहिए। दरसल इन सबको लेकर कई कथाएं शास्त्रों में वर्णित हैं। शंखचुर नाम के असुर का वध करने के कारण शिव पर शंख नहीं चढ़ाया जाता हैं। वही भगवान शिव द्वारा असुर राज जालंधर के वध के पश्चात जालंधर की पत्नी ने शिव पर तुलसी के पत्ते न चढाने की बात कही थी। दरसल जालंधर की पत्नी का नाम वृंदा था जो तुलसी के रूप में आज भी पूजी जाती हैं।

Also, Read घर में किस चीज का दीपक जलाना चाहिए – किस चीज के दीपक से आती हैं खुशहाली

शिवलिंग पर कौन सा चंदन चढ़ाना चाहिए

शिवलिंग पर चढ़ाएं गए चन्दन को सिर पर लगाना बेहद शुभ माना जाता हैं। भगवान शिव को सफ़ेद रंग बहुत पसंद हैं। शिवलिंग पर चन्दन हमेशा सफ़ेद रंग के ही चढाने चाहिए। सफ़ेद रंग के चंदन शिवलिंग पर चढाने से भगवान शिव अति प्रसन्न होते हैं। साथ ही शिवलिंग पर आप सफेद फुल ही चढ़ाएं।

शिवलिंग पर चढ़ा हुआ बेलपत्र खाने से क्या होता है

बेलपत्र कई औषधीय गुणों से भरपूर होता हैं। बेलपत्र में टैनिन, फ्लेवोनॉयड्स और भी कई ऐसे तत्व होते हैं। यह सेहत को कई तरह से लाभ पहुंचाता हैं। बेल के पत्ते का रस निकालकर पीने से पाचन तन्त्र ठीक रहता हैं। इसमें उपस्थित लैक्सेटिव प्रॉपर्टीज आपके पाचन की समस्या को दूर करने में मदद करती हैं। इसके अलावे डायबिटीज में इसके रस को पीने से इंसुलिन तेजी से बढती हैं। इसका सेवन डायबिटीज को नियंत्रित करती हैं।

Also, Read औरतों को शनि देव की पूजा करनी चाहिए या नहीं

लड़कियों को शिवलिंग की पूजा क्यों नहीं करनी चाहिए

लड़कियों को शिवलिंग की पूजा करने की मनाही नहीं हैं। लड़कियां भी शिवलिंग की पूजा कर सकती हैं। लेकिन पूजा के दौरान उन्हें शिवलिंग को स्पर्श करने से बचना चाहिए। दरसल माना जाता हैं की अविवाहित लड़कियां अगर शिवलिंग को छूती हैं तो इससे माँ पार्वती क्रोधित होती हैं। लड़कियों को शिवलिंग की पूजा योग्य और सुंदर पति पाने के लिए जरुर करना चाहिए।

शिवलिंग पर काली मिर्च चढ़ाने के फायदे , शिवलिंग पर काले तिल चढ़ाने चाहिए या नहीं जैसे कई सवालों के जवाब मैंने इस पोस्ट के जरिये दी हैं। यह सभी जानकारियां धर्म ग्रंथों के अनुसार दी गयी हैं। मुझे उम्मीद हैं की यह जानकारी आपको पसंद आई होगी।

Also, Read शमी का पेड़ की पहचान – शमी के पेड़ की पूजा के चौका देने वाले फायदे