हिचकी रोकने का मंत्र / हिचकी बंद न हो रही तो क्या करे – हिचकी आना शुभ या अशुभ

Spread the love

हिचकी रोकने का मंत्र / हिचकी आना शुभ या अशुभ – हिचकी बंद न हो रही तो क्या करे – दुनियां शायद ही कोई होगा जिसे कभी हिचकी नहीं आयी हो कहते हैं की हिचकी आना किसी अपने के याद करने का संकेत होता हैं। हिचकी आना बेहद सामान्य हैं लेकिन कई गंभीर बीमारियों में लक्षण के तौर पर भी हिचकी आने की समस्या होती हैं। अगर हिचकी आपको बार-बार आती हैं या नहीं रुक रही हैं तो ऐसी स्थिति में कुछ घरेलु उपायों द्वारा इस स्थिति में जल्दी लाभ मिलता हैं।

ज्यादात्तर मामले में हिचकी सामान्य कारणों से ही आती हैं। ऐसे में कई लोग हिचकी को लेकर कई सवाल करते हैं तो आइये जानते हैं की हिचकी आना शुभ या अशुभ और हिचकी रोकने का मंत्र क्या हैं।

हिचकी रोकने का मंत्र / हिचकी बंद न हो रही तो क्या करे - हिचकी आना शुभ या अशुभ
हिचकी रोकने का मंत्र / हिचकी बंद न हो रही तो क्या करे – हिचकी आना शुभ या अशुभ

हिचकी क्यों आती है – बार बार हिचकी आने का कारण

हिचकी कई कारणों से आ सकती हैं दरसल जब डायफ्राम मांसपेशियों में एंठन के कारण उत्पन्न होने वाली समस्या हैं। डायफ्राम मांसपेशियों में एंठन की समस्या कई कारणों से उत्पन्न हो सकती हैं जैसे :- पाचन तंत्र के सही से काम न करने से, अत्याधिक तीखा खाने से, फेफड़े की ब्रोंकाइल ट्यूब में सुजन, ज्यादा मसाले वाले भोजन के सेवन आदि। ऐसी स्थिति में कभी-कभी सांस में प्रॉब्लम आती हैं और हिचकी होती हैं। हिचकी अगर कभी-कभार आ रही हैं तो इसमें घबराने की आवश्यकता बिल्कुल भी नहीं हैं। परन्तु अगर हिचकी की समस्या लम्बे समय से हैं तो यह कुछ बीमारियों के संकेत हो सकते हैं।

हिचकी के नुकसान

हिचकी की समस्या बेहद आम समस्या हैं लेकिन अगर आपको हिचकी 15 से 20 तक लगातार परेशान करता हैं या बार -बार आता हैं तो यह कुछ बड़ी समस्यायों के संकेत हो सकते हैं जैसे:- पाचन तन्त्र का कमजोर होना, डायबिटीज, अस्थमा, फेफड़े का संक्रमण, किडनी सबंधी बीमारी, निमोनिया आदि। इस स्थिति में आपको किसी नजदीकी डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

Also, Read आँख फड़कना कैसे रोके – जबरदस्त उपाय

हिचकी बंद न हो रही तो क्या करे

हिचकी अगर बंद नहीं हो रही हैं तो नीचे बताएं कुछ बेहतरीन घरेलु उपायों को अपना सकते हैं:-

1. अपनी सांस को कुछ सेकंड के लिए रोके

हिचकी रोकने का सबसे बढ़िया उपाय हैं अपनी सांसों को रोकना। जी हाँ अपने दोनों हाथों से कुछ सेकंड के लिए नाक को बंद करें और मुंह को भी पूरी तरह बंद कर दें। जब आप सांस नहीं लेंगे तो कुछ ही देर में हिचकी रुक जाएगी। अगर आपने इस मेथड को कभी ट्राई नहीं क्या हैं तो अभी इसे ट्राई करके देखें तुरंत आराम मिलेगा।

Also, Read मुंह की दुर्गंध भगाने के 8 तरीके – मुंह की बदबू का कारण

2. हींग और निम्बू

हिचकी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप हींग और निम्बू का उपयोग भी कर सकते हैं। हींग को थोड़े से बटर में मिलाकर उसका सेवन करने से इस समस्या से तत्काल राहत मिलती हैं। इसके अलावे निम्बू के रस को जीभ पर रखकर उसे चाटने से भी हिचकी तुरंत बंद हो जाएगी।

3. इलायची

इस समस्या में इलायची भी बहुत ही प्रभावी हैं। हिचकी में इलायची खाने से यह समस्या जड़ से नष्ट हो सकती हैं। इसके लिए आपको 4 से 5 इलायची को किसी बर्तन में एक कप पानी के साथ अच्छी तरह उबालना हैं। उबालने के बाद इसे धीरे-धीरे पियें ऐसा करने से आपको हिचकी से निजात मिलेगा।

Also, Read इलायची खाने के फायदे (Elaichi Khane Ke Fayde)

हिचकी रोकने का मंत्र

हिचकी रोकने का मंत्र
हिचकी रोकने का मंत्र

हिचकी आना शुभ या अशुभ

मैंने ऊपर आपको हिचकी रोकने का मंत्र बताया हैं आइए जानते हैं कि यह शुभ या अशुभ। हिचकी का आना बेहद शुभ माना जाता हैं। सनातन धर्म में हिचकी आना संकेत देता हैं की आपका कोई बेहद करीबी आपको याद कर रहा हैं या फिर आपके बारें में बातें कर रहा हैं। हिचकी आना यह भी संकेत देता हैं की आपसे कोई बेहद प्रेम करता हैं और हर वक्त आपकी यादों में खोया रहता हैं। अत: हिचकी को शुभ माना गया हैं।

नवजात शिशु को हिचकी क्यों आती है

नवजात शिशुओं में भी हिचकी का कारण डायफ्राम में एंठन ही हैं। यह तब होता हैं जब कोई बच्चा तेजी से दूध पीता हैं या भोजन नली में रुकावट की वजह से सांस लेने में प्रॉब्लम होती हैं। कई आवश्यकता से अधिक दूध पीने की वजह से भी यह समस्या उत्पन्न हो सकती हैं। ज्यादा खाने या पीने से पेट फुल जाता हैं जिससे डायफ्राम में दिक्कत आती हैं।

Also, Read नवजात शिशु को पॉटी न आये तो क्या करे

नवजात शिशु को हिचकी आने पर क्या करें

नवजात शिशु की हिचकी अगर ज्यादा समय से हैं तो इस स्थिति में चीनी को पीसकर बच्चे के मुंह में डाल दे। ऐसा करने से हिचकी रुक जाएगी। इसके अलावे आप बच्चे को दूध पिलाने वक़्त ध्यान रखें की कभी भी उसे सुलाकर दूध न पिलायें। सुलाकर दूध पिलाने से बच्चे दूध ठीक से नहीं पी पाते हैं और दूध के साथ हवा भी अंदर चली जाती हैं जिससे बच्चे का पेट फुल जाता हैं जो हिचकी का कारण बनता हैं। इसलिए बच्चे को जब भी दूध पिलायें सर को थोड़ा ऊँचा कर ही दूध पिलायें।

Also, Read नवजात शिशु के न रोने का कारण – हो सकती हैं बड़ी समस्या

हिचकी बंद करने के लिए क्या खाना चाहिए?

हिचकी बंद करने के लिए आपको इलायची, अदरक, पुदीने का पत्ता और निम्बू का मिश्रण, निम्बू, हींग, शहद आदि खाना चाहिए। इसके अलावे पानी पीने से भी आसानी से यह समस्या दूर हो जाती हैं। लेकिन ध्यान रहें की पानी पीने के दौरान अगर आप नाक बंद रखेंगे तो यह समस्या महज कुछ सेकंड में ही दूर हो जाती हैं। अत: पीते वक्त नाक को हाथ की सहायता से बंद रखें या सांस न लें। हिचकी आने पर मिश्री का सेवन भी लाभदायक हैं। हिचकी की समस्या में भूलकर कर भी अधिक तीखा चीज नहीं खाना चाहिए।

Also, Read हिचकी क्यों आती है – हिचकी रोकने के घरेलु उपाय

निष्कर्ष

हिचकी रोकने का मंत्र / हिचकी बंद न हो रही तो क्या करे – हिचकी आना शुभ या अशुभ इसकी पूरी जानकारी मैंने इस पोस्ट के माध्यम से दी हैं। हिचकी की समस्या बेहद आम हैं जो अक्सर ही देखने को मिलती हैं। यह समस्या स्वत: ही कुछ मिनटों में ठीक हो जाती हैं। लेकिन अगर यह समस्या बार-बार आपको होती हैं तो समझ लीजिए कि कुछ बीमारियों ने दस्तक दी हैं ऐसे में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

मुझे उम्मीद हैं कि आपको हिचकी रोकने का मंत्र / हिचकी बंद न हो रही तो क्या करे – हिचकी आना शुभ या अशुभ इसकी जानकारी अत्यंत रोचक लगी होगी। इस जानकारी को शेयर जरूर करें।